क्रिप्टो रोबोट

मोमेंटम इंडिकेटर

मोमेंटम इंडिकेटर
(आर्टिकल: सुभाष गंगाधरन, सीनियर टेक्निकल व डेरिवेटिव एनालिस्ट, एचडीएफसी सिक्योरिटीज)

DAX Daily

Share Market: शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स में 300 अंक से अधिक की तेजी, निफ्टी 18,200 के पार

मुंबई। मजबूत तिमाही नतीजों और वैश्विक बाजारों में सकारात्मक रुख के बीच रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी बैंक और टेक महिंद्रा जैसे बड़े शेयरों में बढ़त के चलते प्रमुख शेयर सूचकांक सेंसेक्स मंगलवार को शुरुआती कारोबार में 300 अंक से अधिक चढ़ गया। इस दौरान 30 शेयरों वाला सूचकांक 318.7 अंक या 0.52 प्रतिशत बढ़कर 61,285.75 पर कारोबार कर रहा था। इसी तरह निफ्टी 93.75 अंक या 0.52 फीसदी बढ़कर 18,219.15 पर पहुंच गया।

पिछले सत्र में 30 शेयरों वाला सूचकांक 145.43 अंक या 0.24 प्रतिशत बढ़कर 60,967.05 पर और निफ्टी 10.50 अंक या 0.06 प्रतिशत बढ़कर 18,125.40 पर बंद हुआ था। शेयर बाजार के अस्थाई आंकड़ों के मुताबिक विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने सोमवार को सकल आधार पर 2,459.10 करोड़ रुपये के शेयर बेचे। इस बीच अंतरराष्ट्रीय तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड 0.15 फीसदी बढ़कर 85.30 डॉलर प्रति बैरल के भाव पर था।

यह भी पढ़ें | ऋषि सुनक का बड़ा बयान- भारत के साथ व्यापार समझौते के मोमेंटम इंडिकेटर लिए प्रतिबद्ध हैं, लेकिन…

आज की ट्रेडिंग में ये शेयर जेब भरने वाले हैं। इन शेयरों में पैसे लगाने पर इसका अच्छा रिटर्न मिल सकता है। सेंसेक्स में सबसे अधिक छह प्रतिशत की बढ़त टेक महिंद्रा में हुई। इसके अलावा भारती एयरटेल, बजाज फाइनेंस, टाटा स्टील, एलएंडटी, आईटीसी और एसबीआई भी बढ़त के साथ कारोबार कर रहे थे। दूसरी ओर आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक, पावरग्रिड, एचयूएल और डॉ रेड्डीज में गिरावट हुई।

किन शेयरों में आ सकती है तेजी?
मोमेंटम इंडिकेटर मूविंग एवरेज कन्वर्जेंस डायवर्जेंस एमएसीडी के हिसाब से एमआरपीएल, ओरिएंट इलेक्ट्रिक, आरती ड्रग्स, जुबिलिएंट इंडस्ट्रीज और कैपिटल ट्रस्ट के शेयरों में तेजी के संकेत बन रहे हैं।

Stock Market Tips: ये शेयर्स आने वाले दिनों में पड़ सकते हैं कमजोर, दिख रहे हैं बिकवाली के संकेत

By: एबीपी न्यूज़ | Updated at : 29 Jul 2021 10:14 PM (IST)

Stock Market Tips: शेयर बाजार में बुधवार को काफी बिकवाली देखी गई. कई शेयर सेल के मजबूत सिग्नल दे रहे हैं. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के निफ्टी इंडेक्स के मुताबिक ऐसे करीब 85 शेयर्स हैं. मोमेंटम इंडिकेटर (MACD) के अनुसार इन शेयर्स में बियरिश क्रॉसओवर बन रहे हैं. आने वाले दिनों में इन शेयरों में कमजोरी दर्ज की जा सकती है.

ये शेयर्स पड़ सकते हैं कमजोर

  • फाइनेंस कंपनी आरईसी और पीएससी, इंडिया बुल्स हाउसिंग और ब्रोकरेज स्टॉक जैसे मोतीलाल ओसवाल और एम के ग्लोबल आदि के शेयर्स भी आने वाले दिनों में कमजोर पड़ सकते हैं.

इन शेयर्स में आई गिरावट
ग्रेन्यूल्स इंडिया, कॉम्पटन ग्रीव्स कंज्यूमर इलेक्ट्रिकल्स, निप्पॉन लाइफ एएमसी, कोफोर्ज, पीटीसी इंडिया फाइनेंशियल, एससीआई और गोदरेज प्रॉपर्टीज में गिरावट दर्ज की गई मोमेंटम इंडिकेटर है. अब तक के कारोबार में इन शेयरों में 4 फ़ीसदी तक की कमजोरी दर्ज की गई.

rsi indicator in hindi – RSI से पता करे स्टॉक उपर जायेगा या निचे।

rsi indicator in hindi / rsi indicator kya hota hai

rsi indicator in hindi / rsi indicator kya hota hai

नमस्ते दोस्तों। आज हम समझने वाले है की rsi indicator in hindi में क्या होता है। और इसका ट्रेडिंग में का महत्त्व है। क्या हम rsi इंडिकेटर का इस्तेमाल करके ट्रेडिंग में अच्छे खासे पैसे कमा सकते है। और आखिर rsi इंडिकेटर का इस्तेमाल करते कैसे है। इन सब के बारे में हम आज विस्तार में जानने वाले है।

rsi indicator एक leading indicator है। जो की स्टॉक के ट्रेंड चेंज होने के पहले ही सिग्नल दे देता है। की स्टॉक ऊपर जानेवाला है या फिर निचे। इसीलिए इसे लीडिंग इंडिकेटर भी बोलते है। अगर आपको leading indicators के बारे में नहीं पता तो आप हमारी पिछली पोस्ट पढ़ सकते है। उसमे हमने leading indicators के बारे में विस्तार में बताया है।

rsi indicator in hindi / rsi indicator kya hota hai

rsi indicator in hindi / rsi indicator kya hota hai

rsi indicator in hindi

rsi का full फॉर्म होता है relative strength index .यानि की ये इंडिकेटर स्टॉक की strength यानि की ताकद बताता है। की स्टॉक ऊपर जा सकता है की निचे। अगर interday trading में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला इंडिकेटर हे तो वो rsi indicator है।

rsi indicator स्टॉक्स के चार्ट में होने वाले मोमेंटम का ट्रेंड को दर्शाता है। और इसे oscillator भी कहा जाता है। क्युकी ये इंडिकेटर ० ते १०० के बिच में घूमता रहता है। और स्टॉक overbought हे या फिर oversold है। ये दर्शाने का काम rsi indicator करता है।

rsi indicator कैसे काम करता है

rsi indicator ० ते १०० के बिच में ट्रेंड दिखने के कारन ये कभी ० के निचे और १०० के ऊपर नही जाता। इसके में तीन स्तर होते है। जैसे की ३०,५०,और ७० ये इसके महत्वपूर्ण स्तर है। इनका मतलब होता है की। अगर rsi अगर ५० से १०० के बिच है मतलब स्टॉक का मोमेंटम अभी पॉजिटिव यानि की बुलिश है। और अगर rsi का स्तर ० से लेकर ५० के बिच होता है तो इसका मतलब स्टॉक का मोमेंटम नेगेटिव यानि की बेयरिश है।

rsi indicaor १४ दिनों का average निकाल के आपको स्टॉक की strength बताता है। हलाकि हम उसका average चेंज भी मोमेंटम इंडिकेटर कर सकते है। जाइए की हम 20 दिनों का भी average निकल सकते है। या आप अपने हिसाब से इसका average निकल सकते है। लेकिन डिफ़ॉल्ट १४ दिनों का average निकलने ये सही होता है। ये इंडिकेटर ज्यादातर technical analysis में इस्तेमाल किया जाता है।

अगर rsi ५० के ऊपर जा रहा है इसका मतलब शेयर में तेजी आने की संभवना होती है। या स्टॉक की प्राइज भी ऊपर जाने लगाती है। लेकिन अगर rsi ५०के निचे अपना ट्रेंड बना रहा होता है ,यानि की शेयर में बिकवाली होना शुरू हुआ है ,यानि स्टॉक निचे जाने की संभावना होती है।

RSI indicator के फायदे

ये एक मोमेंटम indicator होने के कारन ये आपको स्टॉक के चार्ट का मोमेंटम बताता मोमेंटम इंडिकेटर है। और अगर मार्केटover bought (औसत से ज्यादा खरीद ) हे तो ये आपको outbought का सिग्नल पहले ही दे देता है। इससे आप पहल की स्टॉक का रिवर्सल पता करके के स्टॉक में short selling भी कर सकते है। आपको अच्छ मुनाफा कमाने का मौका ये इंडिकेटर देता है।

और अगर मार्केट over sold यानि की औसत से ज्यादा बिकवाली स्टॉक में है तो ये इंडिकेटर आपको over sold का सिग्नल पहले ही दे देता है। और ऐसा मन जाता है की स्टॉक जब भी over bought होता है। या फिर over sold होता है। तो मार्केट में रिवर्सल जरूर आता है। तो इसी रिवर्सल को पहलेही पहनके आप इसमें अच्छा मुनाफा काम सकते है।

निष्कर्ष

rsi indicator एक ऐसा इंडिकेटर हे जो आपको मार्किट की ताकत बुलिश है या फिर बेयरिश है ये दर्शाता है। फिर उसके हिसाब से आप अपना ट्रेड ले सकते है। लेकिन इसे समझने के लिए आपको इसे candle stick chart पर लगाना जरुरी है। उससे ही आपको इसका अंदाजा हो जायेगा की ये काम कैसे करता है।

DAX रैली थका हुआ लग रहा है

इस सप्ताह डीएएक्स में तेज रैली रुकी हुई है, जो आंशिक रूप से यूरोपीय अर्थव्यवस्था के स्वास्थ्य के बारे में निवेशकों की चिंताओं को दर्शाती है, जहां उच्च <<ईसीएल-68||मुद्रास्फीति>> और कम आर्थिक विकास एक बड़ी स्थिति बनी हुई है। जोखिम संपत्ति के लिए मोमेंटम इंडिकेटर जोखिम। अमेरिका में चरम मुद्रास्फीति के बारे में आशावाद भी कम होना शुरू हो गया है, जब CPI में गिरावट से जोखिम वाली संपत्ति बढ़ गई थी, तब अमेरिकी सूचकांकों ने पिछले सप्ताह के तेज लाभ में जोड़ने में संकोच किया था।

समान रूप से, पोलैंड में मिसाइल लैंडिंग के साथ बिकवाली को ट्रिगर करने के लिए कोई नया उत्प्रेरक नहीं है, जिसके कारण बाजार में कल देर से गिरावट आई, जो एक दुर्घटना की तरह तेजी से बढ़ रही थी। फिर भी, संतुलन पर, मुझे लगता है कि कम आर्थिक विकास के समय ईसीबी उच्च मुद्रास्फीति के खिलाफ लड़ाई को प्राथमिकता देने के लिए जोखिम को कम कर रहा है।

PI Industries

  • इस हफ्ते पीआई इंडस्ट्रीज ने रिलेटिव स्ट्रेंथ दिखाया है. निफ्टी इंडेक्स में इस हफ्ते 1.72 फीसदी की गिरावट रही लेकिन पीआई इंडस्ट्रीज इसी अवधि में 5.47 फीसदी मजबूत हुआ है. इस दौरान स्टॉक ने हेल्दी वॉल्यूम के दम पर हालिया ट्रेडिंग रेंज को ब्रेक किया है.
  • तकनीकी इंडिकेटर्स इसे लेकर पॉजिटिव संकेत दे रहे हैं क्योंकि इसके भाव 20 व 50 दिनों के एसएमए के ऊपर हैं. 14 दिनों के आरएसआई जैसे डेली मोमेंटम इंडिकेटर्स में भी उछाल आया है और यह लगातार मजबूत हो रहा है जिससे शेयरों में मजबूती बने रहने के संकेत दिख रहे हैं.
  • इन सबके चलते पीआई इंडस्ट्रीज के भाव आने वाले कारोबारी दिनों में मजबूत हो सकते हैं. निवेशक इसमें 3075 रुपये के मोमेंटम इंडिकेटर मौजूदा भाव पर निवेश कर सकते हैं. अगर इसके भाव टूटते हैं तो 3060-3090 मोमेंटम इंडिकेटर रुपये तक भाव गिरता है तो शेयरों की संख्या बढ़ा सकते हैं. निवेशक इसमें 2900 रुपये का स्टॉप लॉस रखकर 3500 रुपये के टारगेट प्राइस पर पैसे लगा सकते हैं.
रेटिंग: 4.27
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 735
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *