स्वचालित व्यापार

पीपीएफ खाते से पैसे कैसे निकालें?

पीपीएफ खाते से पैसे कैसे निकालें?

PPF की मैच्योरिटी से पहले भी निकाल सकते हैं पैसे, जानिए क्या है नियम

अकाउंट ओपन करने के छठे फाइनेंशियल ईयर से आप पैसे निकाल सकते हैं। इसका मतलब है कि अगर आपने 1 फरवरी, 2020 को पीपीएफ अकाउंट खोला है तो फाइनेंशियल ईयर 2025-26 के बाद से आप पैसा निकाल सकते हैं

PPF में एक फाइनेंशियल ईयर में मैक्सिमस 1.5 लाख रुपये जमा किया जा सकता है। आप बैंक या पोस्ट ऑफिस में पीपीएफ अकाउंट ओपन कर सकते हैं।

PPF अकाउंट कई लोग इसलिए नहीं ओपन करते कि इसमें लिक्विडिटी नहीं है। उन्हें लगता है कि एक बार अकाउंट ओपन करने के 15 साल बाद ही पैसा हाथ में आएगा। दरअसल, पीपीएफ का मैच्योरिटी पीरियड 15 साल है। लेकिन, ऐसा नहीं है। 15 साल से पहले भी पीपीएफ से पैसे निकाले जा सकते हैं। किसी तरह की इमर्जेंसी जैसे इलाज, बेटी की शादी, पढ़ाई आदि के लिए मैच्योरिटी से पहले भी पीपीएफ से पैसे निकाले जा सकते हैं। आइए मैच्योरिटी से पहले पैसे निकालने के नियम के बारे में जानते हैं।

क्या है पैसे निकालने का नियम?

अकाउंट ओपन करने के छठे फाइनेंशियल ईयर से आप पैसे निकाल सकते हैं। इसका मतलब है कि अगर आपने 1 फरवरी, 2020 को पीपीएफ पीपीएफ खाते से पैसे कैसे निकालें? अकाउंट खोला है तो फाइनेंशियल ईयर 2025-26 के बाद से आप पैसा निकाल सकते हैं।

संबंधित खबरें

BSNL के ये हैं सबसे सस्ते प्लान, 50 रुपये से कम में एक महीना की वैलिडिटी, मिलेंगे ढेर सारे फायदे

LIC Whatsapp Service: LIC ने ग्राहकों को दिया तोहफा, WhatsApp सर्विस शुरू, जानिए कैसे उठाएं फायदा

7th Pay Commission: साल 2023 में सरकारी कर्मचारियों की होगी चांदी, पैसों से जेब रहेगी फुल

कितने पैसे निकाल सकते हैं?

अच्छी बात यह है कि अगर आप मैच्योरिटी से पहले पैसे निकालते हैं तो भी उस पर आपको टैक्स नहीं देना होगा। एक फाइनेंशियल ईयर में आप सिर्फ एक बार अकाउंट से पैसे निकाल सकते हैं। पीपीएफ के नियमों के मुताबिक, आप करेंट फाइनेंशियल ईयर से पहले वाले फाइनेंशियल ईयर के अंत में अपने अकाउंट में जमा 50 फीसदी तक पैसा निकाल सकते हैं।

क्या है पैसा निकालने का प्रोसेस?

आपको विड्रॉल फॉर्म भरना पड़ता है, जिसे फॉर्म सी कहते हैं। इस फॉर्म को भरने के बाद आपको पीपीएफ पासबुक की कॉपी इसके साथ लगानी होगी। आपका अप्लिकेशन प्रोसेस हो जाने के बाद पैसा आपके सेविंग अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया जाता है। आप चाहें तो डिमांड ड्राफ्ट के जरिए भी पैसा ले सकते हैं।

PPF के क्या हैं फायदे?

PPF रिटायरमेंट प्लानिंग के लिए बहुत जरूरी है। अगर इसमें हर साल इनवेस्ट किया जाए तो मैच्योरिटी तक अच्छा फंड तैयार हो जाता है। इसलिए यह आपके फाइनेंशियल गोल (Financial Goal) को हासिल करने में भी मददगार हो सकता है।

PPF की कई खासियतें हैं। पहला, इसमें इनवेस्टमेंट पर आपको इनकम टैक्स के सेक्शन 80सी के तहत टैक्स छूट मिलती है। सिर्फ यहीं नहीं, इसमें एग्जेम्पट-एग्जेम्पट-एग्जेम्पट (EEE) बेनिफिट भी मिलता है। इसका मतलब है कि आपके कंट्रिब्यूशन पर टैक्स नहीं लगता है। आपके डिपॉजिट पर मिलने वाले इंट्रेस्ट पर टैक्स नहीं लगता है। आखिर में मैच्योरिटी पर मिलने वाला टोटल अमाउंट पर भी किसी तरह का टैक्स नहीं लगता है। ऐसे बहुत कम इनवेस्टमेंट ऑप्शन हैं, जिनमें EEE का बेनिफिट मिलता है।

एक साल में कितना जमा किया जा सकता है?

PPF में एक फाइनेंशियल ईयर में मैक्सिमस 1.5 लाख रुपये जमा किया जा सकता है। आप बैंक या पोस्ट ऑफिस में पीपीएफ अकाउंट ओपन कर सकते हैं। अच्छी बात यह है कि इसमें आप मंथली या एनुअली पैसा जमा कर सकते हैं। हर साल इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करते वक्त आप पीपीएफ में जमा रकम पर डिडक्शन क्लेम कर सकते हैं। इसकी आपकी टैक्स लायबिलिटी कम हो जाएगी।

MoneyControl News

MoneyControl News

First Published: Apr 12, 2022 1:58 PM

हिंदी में शेयर बाजार, Stock Tips, न्यूज, पर्सनल फाइनेंस और बिजनेस से जुड़ी खबरें सबसे पहले मनीकंट्रोल हिंदी पर पढ़ें. डेली मार्केट अपडेट के लिए Moneycontrol App डाउनलोड करें।

पीपीएफ निकासी नियमों में बदलाव, मैच्योरिटी से पहले भी निकाल सकते हैं PPF खाते से पूरा पैसा, जानें- क्या है प्रक्रिया?

PPF Withdrawal Rules Changed: पीपीएफ निकासी नियमों में बदलाव हुआ है. अब मैच्योरिटी से पहले भी PPF खाते से पूरा पैसा निकाल सकते हैं. अगर कोई खाताधारक मैच्योरिटी अवधि से पहले पैसा निकालना चाहता है, तो उसे फॉर्म भरकर उस पोस्ट ऑफिस या बैंक में जमा करना होगा जहां आपका पीपीएफ खाते से पैसे कैसे निकालें? पीपीएफ खाता है.

Updated: June 13, 2022 8:32 AM IST

PPF Interest Rate Public Provident Fund

The PPF interest is calculated based on the minimum balance between the close of fifth day and last day of every month.

PPF Withdrawal Rules Changed: लंबी अवधि के निवेश के लिए पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) को काफी अच्छा विकल्प माना जाता है. PPF में काफी अच्छा ब्याज भी मिलता है. साथ ही, निवेश किए गए पैसे और उस पर मिलने वाले ब्याज और मैच्योरिटी अवधि पूरी होने पर मिलने वाली रकम पर टैक्स छूट भी मिलती है. इसी वजह से यह निवेशकों के बीच काफी लोकप्रिय है.

Also Read:

पीपीएफ की मैच्योरिटी अवधि 15 साल है. कुछ लोगों को यह गलतफहमी होती है कि इसमें निवेश किया गया पैसा बीच में ही नहीं निकाला जा सकता है. उनका यह अनुमान बिल्कुल गलत है. पीपीएफ की मैच्योरिटी अवधि पूरी होने से पहले भी इसे कुछ खास परिस्थितियों में बंद किया जा सकता है. आइए जानते हैं किन परिस्थितियों में इससे पहले से पैसा निकाला जा सकता है और इसकी प्रक्रिया क्या है?

इन परिस्थितियों में मैच्योरिटी से पहले भी निकाल सकते हैं पैसे

पीपीएफ खाताधारक जीवनसाथी और बच्चों की बीमारी की स्थिति में पैसे निकाल सकता है. इसके अलावा खाताधारक अपने बच्चों की पढ़ाई के लिए पीपीएफ खाते से पूरा पैसा भी निकाल सकते हैं. अगर कोई खाताधारक अनिवासी भारतीय (NRI) बन जाता है, तो भी वह अपना पीपीएफ खाता बंद कर सकता है.

5 साल बाद ही पैसे निकाले जा सकते हैं

कोई भी खाताधारक पीपीएफ खाता पीपीएफ खाते से पैसे कैसे निकालें? खोलने के 5 साल पूरे होने के बाद ही बंद कर सकता है. यदि इसे मैच्योरिटी अवधि से पहले बंद किया जाता है, तो खाता खोलने की तारीख से बंद होने की तारीख तक 1% ब्याज काट लिया जाएगा. अगर पीपीएफ खाते की मैच्योरिटी से पहले खाताधारक की मृत्यु हो जाती है, तो यह पांच साल की शर्त खाताधारक के नॉमिनी पर लागू नहीं होती है. नॉमिनी पांच साल से पहले पैसे निकाल सकता है. खाताधारक की मृत्यु के बाद खाता बंद कर दिया जाता है. नामांकित व्यक्ति इसे जारी रखने का हकदार नहीं है.

जानें- क्या है खाता बंद करने की प्रक्रिया

अगर कोई खाताधारक मैच्योरिटी अवधि से पहले पैसा निकालना चाहता है, तो उसे फॉर्म भरकर उस पोस्ट ऑफिस या बैंक में जमा करना होगा जहां आपका पीपीएफ खाता है. पासबुक और मूल पासबुक की फोटोकॉपी भी आवश्यक है. यदि खाताधारक की मृत्यु के कारण पीपीएफ खाता बंद कर दिया गया है, तो उस महीने के अंत तक ब्याज मिलता है जिसमें खाता बंद है.

पीपीएफ पर मिलने वाली ब्याज दर

पीपीएफ खाते पर मौजूदा ब्याज दर 7.1 फीसदी सालाना है. पीपीएफ में एक वित्त वर्ष में न्यूनतम 500 रुपये और अधिकतम 1.5 लाख रुपये जमा किए जा सकते हैं. एक व्यक्ति अपने नाम से केवल एक ही पीपीएफ खाता खोल सकता है.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

PPF खाते से कब, कैसे और कितना निकाल सकते हैं पैसा? जानिए यहां

PPF खाते में जमा की गई धनराशि को इस समयावधि के बाद ही निकाला जा सकता है.

PPF खाते से कब, कैसे और कितना निकाल सकते हैं पैसा? जानिए यहां

पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) में निवेश कई लोगों का पसंदीदा विकल्प है. इसमें निवेश टैक्स फ्री है और मिलने वाला ब्याज भी टैक्स फ्री. बाद में मिलने वाली धनराशि भी कर मुक्त है. खास बात यह है कि इस स्कीम में लॉक-इन पीरियड 15 साल की है. इस खाते में जमा की गई धनराशि को इस अवधि के बाद ही निकाला जा सकता है. हालांकि कुछ परिस्थितियों में खाताधारक रकम को निकाल सकता है.

पीपीएफ खाते (PPF Account) में जमा राशि का 50 फीसदी तक निकालने की अनुमति खाता शुरू करने के साल से पांच साल पूरे होने के बाद मिलती है. वहीं हर वित्तीय वर्ष में आंशिक निकासी की अनुमति है. धनराशि निकालने को बेहतर समझने के लिए, मान लीजिए कि आपने PPF खाता 15 जनवरी 2015 को खोला था. ऐसे में आप केवल वित्तीय वर्ष 2018-19 से आंशिक निकासी कर सकते हैं.

धनराशि निकालने के लिए जानें जरूरी बातें

पीपीएफ खाते का 50 प्रतिशत 5 साल पूरे होने पर निकाला जा सकता है. पूरी रकम 15 साल की अवधि पूरी होने पर निकाली जा सकती है.

पैसे निकासी के लिए आवेदन

PPF खाते से पैसे निकालने के लिए पोस्ट ऑफिस या बैंक, जहां पर खाता है, वहां पर उपलब्ध फॉर्म C भरकर जमा करना होगा. खाता संख्या और निकाली जाने वाली धनराशि का फॉर्म में उल्लेख किया जाना जरूरी है. खाताधारक के साइन होने के साथ ही फॉर्म में राजस्व टिकट भी लगा होना चाहिए.

PPF खाते से रकम निकालने की प्रक्रिया

बैंक या डाकघर से पैसे निकालने के लिए सबसे पहले पता लगाएं कि आप निकासी के लिए पात्र हैं या नहीं. इसके लिए खाता खोलने की तारीख का पता लगाएं. अगर आप पात्र होते हैं, तो ये पता करें कि आप कितना पैसा निकाल सकते हैं. राशि ग्राहक के बैंक खाते में जमा हो जाएगी या बैंक ड्राफ्ट दे दिया जाता है.

पीपीएफ खाते को कैसे करें बंद

पीपीएफ खाते को जितने लंबे समय के लिए चलाया जाता है, उसमें ही फायदा होता है. लेकिन मेच्योरिटी से पहले खाता बंद करने के लिए एक विशेष स्थिति होती है. किसी गंभीर बीमारी या बच्चों की उच्च शिक्षा के लिए PPF अकाउंट से खुले अगर पांच साल हो चुके हों, तो उसे बंद किया जा सकता है.

EPF अकाउंट से कब और कैसे निकाल सकते हैं पैसे? जानिए यहां

EPF अकाउंट से कब और कैसे निकाल सकते हैं पैसे? जानिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

PPF Withdrawal Rules in Hindi

देश में रहने वाले अधिकतर लोग अपनी कमाई से कुछ पैसा बचाकर किसी सेफ जगह पर जमा करना चाहते है, ताकि जरूरत पड़ने पर वो पैसे समय रहते प्राप्त हो सके | इसलिए रिटायरमेंट के बाद हो या फिर अन्य किसी बड़े काम के लिए रकम इकट्ठा करनी है तो, इसके लिए पीपीएफ अकाउंट बहुत अच्छी और सुविधाजनक बचत स्कीम मानी जाती है, क्योंकि यह एक स्कीम होती है, जिसमें आपको बेहतर ब्याज के साथ-साथ जमा रकम और उसकी ब्याज पर सरकार से पूरी की पूरी टैक्स छूट का फायदा भी प्राप्त होता है |

पीपीएफ अकाउंट एक महत्वपूर्ण एकाउंट माना जाता है | इसलिए यदि आपको पीपीएफ अकाउंट के विषय में अधिक जानकारी नहीं प्राप्त है और आप इसके विषय में जानना चाहते है, तो यहाँ पर आपको PPF Withdrawal Rules in Hindi , आंशिक और पूर्ण PPF खाते से राशि कैसे निकालें (नियम) | इसकी पूरी जानकारी प्रदान की जा रही है |

आंशिक और पूर्ण PPF खाते से राशि कैसे निकालें ?

Table of Contents

आंशिक और पूर्ण PPF खाते से राशि निकालने के मामले में कुल तीन तरह के नियम बनाये गए है, जिनके तहत आप अपने खाते से जमा राशि को निकाल सकते है |

  1. पूर्ण निकासी: पूर्ण निकासी में 15 साल की मेच्योरिटी पूरी होने के बाद पूरा पैसा निकालना
  2. पीपीएफ खाते से पैसे कैसे निकालें?
  3. आंशिक निकासी: 5 साल का खाता होने के बाद किसी आवश्यकता पर पूरा पैसा निकालना
  4. छोटी जरूरत: तीसरे साल के बाद पीपीएफ जमा के आधार पर कर्ज (Loan) लेना

पूर्ण PPF खाते से राशि निकालने का नियम

पूर्ण खाते से राशि निकालने का नियम

पीपीएफ अकाउंट में आपके 15 साल में जमा राशि की रकम पूरी हो जाती है। इसका मतलब कि, इस अकाउंट में आपको लगातार 15 साल तक पैसा जमा करना होता है। उसके बाद आपका जमा पैसा उस पर बना ब्याज के साथ आपको पूरा प्रदान कर दिया जाता है लेकिन, यदि आप 15 साल के बाद भी पीपीएफ अकाउंट से पैसा नहीं निकालना चाहते है, तो आप पैसा जमा रहने दे सकते हैं, परन्तु 15 साल के बाद खाते का विस्तार कम से कम 5 साल के लिए कराना आवश्यक हो जाता है। इस प्रकार से खाता की विस्तारित अवधि में आपको पीपीएफ खाते के लिए तय ब्याज प्रदान की जाएगी | इसके बाद यदि आप खाता जारी रखने के बाद भी पैसा नहीं जमा करना चाहते है, तो फिर आपको उसके लाभ प्रदान किये जाएंगे |

पहली 5 साल की खाता विस्तार अवधि पूरी हो जाने पर आप अपने मुताबिक अगले 5 साल के लिए इसकी अवधि बढ़वा सकते हैं। इस प्रकार आप 5-5 साल करके जब तक चाहें पीपीएफ खाता जारी रख सकते हैं।

आंशिक खाते से राशि निकालने का नियम

यदि आपके पीपीएफ खाते के 5 वित्तीय वर्ष पूरे हो चुके है, तो निम्नलिखित दो स्थितियों में आपको अपने पीपीएफ का पूरा पैसा निकालने की अनुमति प्रदान की जा सकती है |

  1. खाताधारक को या उसके परिवार के सदस्य को गंभीर बीमारी या रोग है, तो वह उनके या अपने इलाज के लिए पैसे निकाल सकता है |
  2. खाताधारक को या उसके परिवार (पत्नी या बच्चों) की उच्च शिक्षा ग्रहण करने के लिए भी पैसे निकाल सकता है |

खाते से राशि निकालने के नियमो से सम्बंधित पीपीएफ महत्वपूर्ण जानकारी

जैसे कि उपर के पैराग्राफ में बताया गया हा कि दोनों तरह की स्थितियों में भी यदि आप पीपीएफ खाते से पैसे निकालते है तो, पीपीएफ का पैसा निकालने पर आपको एकदम पूरा पैसा वापस नहीं प्रदान किया जाता है | आपकी जमा पर मिलने वाली ब्याज में से 1 प्रतिशत ब्याज काट लिया जाता है और बची हुई रकम ही आपको प्रदान कर दी जाती है। इस प्रकार मेच्योरिटी के पहले पैसा निकालने पर आपको ये थोड़ा सा नुकसान होता है।

पहले 5 साल पूरा करने वाले पीपीएफ अकाउंट से इमरजेंसी की स्थिति में भी ​कुल जमा का सिर्फ 50 प्रतिशत आधा ​निकालने की अनुमति दी जाती थी, लेकिन अब बाद में सरकार ने 2016 में इसे बदलकर विशेष परिस्थितयों में पूरा पैसा निकालने की छूट का नियम लागू कर दिया।

छोटी जरूरत पर पीपीएफ खाते से राशि निकालने का नियम

यदि आपके अकाउंट के 5 वित्तीय वर्ष पूरे नहीं हो चुके है, तो आप उसका पूरा पैसा नहीं निकाल सकते है , लेकिन कोई विशेष आवश्यकता पड़ने पर आप उससे लोन की राशि प्राप्त कर सकते हैं, परन्तु लोन की यह सुविधा भी आपको पीपीएफ अकाउंट के तीसरे वित्तीय वर्ष से ही प्रदान की जाती है |

उसके बाद आप जरूरत पड़ने पर 6 ​वित्तीय वर्ष तक कभी भी पीपीएफ अकाउंट से लोन के रूप में प्राप्त कर सकते हैं। इसके बाद जब छठा वित्तीय वर्ष पूरा हो जाएगा, तो आपको इसके बाद पीपीएफ खाते से लोन नहीं प्रदान किया जाएगा | हालांकि, इस अवधि के बाद आपके पास पीपीएफ खाते को बंद करने और पूरा पैसा निकालने की सुविधा लागू कर दी जाती है | इसके अलावा पीपीएफ अकाउंट से लोन लेने पर भी आपको अपनी पूरी की पूरी जमा रकम लोन के रूप में नहीं प्रदान की जाती है, सिर्फ उसका कुछ हिस्सा ही आपको दिया जाता है।

यहाँ पर हमने आपको आंशिक और पूर्ण PPF खाते से राशि निकालने के विषय में जानकारी उपलब्ध कराई है | यदि आप इस जानकारी से संतुष्ट है, या फिर इससे समबन्धित अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो कमेंट पीपीएफ खाते से पैसे कैसे निकालें? करे और अपना सुझाव दे सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का जल्द ही निवारण किया जायेगा |अधिक जानकारी के लिए hindiraj.com पोर्टल पर विजिट करते रहे |

रेटिंग: 4.88
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 468
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *