रणनीति कैसे चुनें

Dividend क्या होता है

Dividend क्या होता है

Reliance Industries के शेयर इसी हफ्ते हो जाएंगे एक्स-डिविडेंड, जानिए अहम बातें

पिछले कारोबारी दिन यानी शुक्रवार 12 अगस्त को RILका शेयर BSE पर 42.45 रुपए यानी 1.64 फीसदी की बढ़त के साथ 2,632.65 रुपए के स्तर पर बंद हुआ था

आम तौर पर किसी निवेशक को डिवीडेंड की पात्रता के लिए एक्स-डिवीडेंड से पहले किसी कंपनी के शेयरों की होल्डिंग रखनी चाहिए

Share market news: मार्केट कैप (बाजार पूंजी) के हिसाब से भारत की सबसे बड़ी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) इसी हफ्ते स्टॉक एक्सचेंजों पर एक्स डिविडेंड हो जाएगी। गौरतलब है कि एक्स-डिविडेंड डेट उस डेट को कहा जाता है जिसके पहले शेयर खरीदने वाले को ही डिविडेंड मिलता है। आमतौर उसके अगले दिन Dividend क्या होता है रिकॉर्ड डेट होती है। ये भी ध्यान में रखने की बात है कि डिविडेंड के लिए रिकॉर्ड डेट और पेमेंट डेट भी अलग-अलग होती है।

बता दें की RIL ने वित्त वर्ष 2022 के लिए अपने शेयरधारकों को 80 फीसदी डिविडेंड देने का ऐलान किया है। 6 मई को RIL ने वित्त वर्ष 2022 के लिए 10 रुपए फेस वैल्यू के प्रति शेयर पर 8 रुपए डिविडेंड देने का ये ऐलान किया था। मुकेश अंबानी की लीडरशिप वाली कंपनी ने एजीएम (एनुअल जनरल मीटिंग) में घोषित और अनुमोदित होने पर एक सप्ताह के भीतर इस डिविडेंड के भुगतान की योजना बनाई है। बता दें कि पिछले हफ्ते आरआईएल के शेयरों में तेजी देखी गई है।

इसी महीने की शुरुआत में जून 2022 तिमाही के नतीजों का ऐलान करते समय RIL ने वित्त वर्ष 2022 के लिए दिए जाने वाले इस डिविडेंड के लिए 19 अगस्त 2022 को रिकॉर्ड तिथि घोषित किया गया था। ऐसे में RIL का स्टॉक एक्सचेंजों पर 18 अगस्त के एक्स-डिविडेंड हो जाएगा। RIL की 45वीं एजीएम 29 अगस्त को होने वाली है। यह मीटिंग वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये दोपहर 2 बजे होगी। कंपनी ने वित्त वर्ष 22 के डिविडेंड के लिए 19 अगस्त रिकॉर्ड डेट तय की है, जो एजीएम में घोषित किया जा सकता है।

कैसे डिविडेंड्स कैलकुलेट करें (Calculate Dividends)

विकीहाउ एक "विकी" है जिसका मतलब होता है कि यहाँ एक आर्टिकल कई सहायक लेखकों द्वारा लिखा गया है। इस आर्टिकल को पूरा करने में और इसकी गुणवत्ता को सुधारने में समय समय पर, 13 लोगों ने और कुछ गुमनाम लोगों ने कार्य किया।

यहाँ पर 7 रेफरेन्स दिए गए हैं जिन्हे आप आर्टिकल में नीचे देख सकते हैं।

यह आर्टिकल ४,०६८ बार देखा गया है।

जब कोई कंपनी पैसा बनाती है, तो उसके पास आमतौर पर दो सामान्य विकल्प होते हैं। एक तरफ, अपने ख़ुद के कामकाज का विस्तार करना, नए उपकरण खरीदना, आदि करने में कंपनी इन पैसों को पुनर्निवेश (re-invest) कर सकती है। (इस तरह खर्च किये गए पैसों को “प्रतिधारित कमाई या retained earnings” कहा जाता है)। दूसरी ओर, कंपनी अपने इन्वेस्टर्स (निवेशकों) को भुगतान करने के लिए इस अपने मुनाफे का उपयोग कर सकती है। इस तरह से इन्वेस्टर्स को दिया जाने वाला पैसा "डिविडेंड (यानि लाभांश)" कहलाता है। एक कंपनी द्वारा अपने शेयरधारक को कितना डिविडेंड देय है, यह कैलकुलेट करना आमतौर पर काफ़ी आसान होता है; dividend per share या DPS (यानी प्रति शेयर जितना डिविडेंड देय है) को बस आपके पास मौजूद शेयर्स की संख्या से मल्टिप्लाय कर दीजिये। DPS को price per share (यानि, प्रति शेयर की कीमत) से डिवाइड करके "डिविडेंड यील्ड या लाभांश उपज" (आपकी इन्वेस्टमेंट का उतना परसेंट जो आपकी स्टॉक होल्डिंग्स आपको डिविडेंड के रूप में कमाकर देगी) का पता लगाना भी संभव है। [१] X रिसर्च सोर्स

इमेज का टाइटल Calculate Dividends Step 1

आपके पास स्टॉक के कितने शेयर्स हैं इसका पता लगाएं. यदि आपके पास इस बात की जानकारी पहले से उपलब्ध नहीं है कि कंपनी के कितने शेयर्स आपके पास हैं, तो उसका पता लगाएं। आप आमतौर पर यह जानकारी अपने ब्रोकर या इन्वेस्टमेंट एजेंसी से संपर्क करके या कंपनी द्वारा अपने इन्वेस्टर्स को डाक या ईमेल द्वारा नियमित रूप से भेजे जाने वाले स्टेटमेंट्स की जांच करके, प्राप्त कर सकते हैं।

Dividend kya hota he/डिविडेंड क्या होता है ?

dividend kya hota he ?

नमस्ते दोतो। आज हम dividend kya hota he के बारे में देखने वाले हे। आज डिविडेंड की पूरी abcd हम आज पढ़ने वाले हे। अगर आपको अछि लगे तो कृपया इसे अपने फॅमिली के साथ या दोस्तों के साथ शेयर जरूर कीजियेगा। तो चलिए हम आज किन किन टॉपिक के बारे में देखने वाले हे।

  1. dividend kya hota he ?
  2. क्या डिविडेंड देना अनिवार्य हे ?
  3. क्या कंपनी अपने नुकसान में डिविडेंड देती हे ?
  4. डिविडेंड के क्या क्या प्रकार होते हे ?
  5. डिविडेंड की तारीख कहा जमा होता हे ?

Dividend kya hota he / what is dividend ?

डिविडेंड क्या होता हे?-

डिविडेंड को लाभांश कहते हे। उसका मतलब होता हे की ,अगर हमारा किसी कंपनी में इन्वेस्ट हे। और हमने उस कंपनी के शेयर्स ख़रीद रखे हे। और अगर उस कंपनी को अपने व्यापर में फायदा होता हे । तो वो कंपनी अपने फायदे में का कुच हिस्सा (प्रॉफिट) पैसा अपने शेयर होल्डर्स के देती हे।

और उस पैसे को या प्रॉफिट को हम डिविडेंट कहते हे। और वो डिविडेंड कितना देना हे कंपनी तय कराती हे। वो डिविडेंड कंपनी अपने मन से देती हे। क्युकी वो कंपनी के लिए एक खर्च्या होता हे और हम शेयर होडर के लिए इनकम।

kya dividend dena compalsory (अनिवार्य ) he ?

क्या डिविडेंड देना अनिवार्य हे।

बहुत लोग सोचते होंगे की ,क्या कंपनी ने डिविडेंट देना ये अनिवार्य हे। या सरकार का नियम हे। जी ऐसा कुछ नहीं हे आपको बता दू ,कंपनी अपने मन से चाहे तो डिविडेंट दे सकती हे। या तो वो नहीं भी दे सकती हे। कंपनी पर ऐसी कोई पाबन्दी नहीं हे की डिविडेंड देना ही चाहिए।

डिविडेंट देना या न देना कंपनी के बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स तय करते हे। अगर कंपनी अच्छे प्रॉफिट में चल रही हे. तो कंपनी डिविडेंट दे सकती हे। या फिर कंपनी वही पैसा अपने बिज़नेस को बढ़ने के लिए भी लगा सकती हे।

kya company loss me dividend de shakti he ?

आपको बता दू ,कंपनी अपने नुकसान में भी डिविडेंट दे सकती हे। क्युकी वो एक कंपनी की प्रतिष्ठा या रुतबा रहता हे। क्युकी ब्रैंड वल्यू रहती हे। अगर कंपनी पिछले कई सालो से डिविडेंट दे रही हे। और इस साल कंपनी को नुकसान हुआ। तो कंपनी शेयर होल्डर्स का भरोसा रहने नियमित के लिए वो उनको डिविडेंट दे सकती हे।वो अपने कॅश रिज़र्व से शेयर होडर्स को डिविडेंट दे सकती हे। लेकिन कितना देगी ये पहिले ही बताया। वो कंपनी के डिरेक्टर्स तय करते हे।

यह भी पढ़े –

types of dividend

dividend ke prakar

डिविडेंड के दो प्रकार होते हे। जैसे की एक होता हे फाइनल डिविडेंड (final Dividend ).और दूसरा होता हे इंटर्न डिविडेंड (Intern Dividend ).ये दोनों डिविडेंड अलग अलग होते हे। पहले देखते हे फाइनल डिविडेंट -ये डिविडेंट साल में एकबार दिया जाता हे।

जो सीधा आपके खाते में जमा किया जाता हे। और दूसरा हे इंटर्न डिविडेंड -जो साल में कितनी बार भी दे सकते हे। विदेश में तो इंटर्न डिविडेंट हर तीन महीने में दिया जाता हे। अगर किसी कंपनी को अपने क़्वार्टर रिजल्ट में प्रॉफिट हुआ। तो Dividend क्या होता है कंपनी इंटर्न डिविडेंड देती हे।

dividend ki dates

डिविडेंट की तारीख तय की जाती हे उनके भी अलग अलग प्रकार होते हे जैसे की -dividend annoucement date,record date,ex date.

  1. dividend announced date -इसमें कंपनी डिविडेंड देना का फैसला सुनाती हे। की हम डिविडेंट देने वाले हे।
  2. record date – कंपनी तय करती हे की इस तारीख को आपके डीमेट खाते में शेयर्स होने चाहिए।
  3. ex date ये तारीख सबसे महत्वपृर्ण होती हे। शेयर्स होल्डर के लिए। क्युकी इस तारीख का मतलब होता हे की ,इस तारीख से पहले आपके पास शेयर होने चाहिए। इसके १ दिन भी पहले आपने शेयर्स खरीद लिए। तो भी आपको डिविडेंड मिलेगा। सिर्फ ex date से पाहिले आपके डीमेट खाते में ये शेयर्स होने चाहिए।

लेटेस्ट डिविडेंड देने वाले स्टॉक्स देखने है टी आप moneycontrol वेबसाइट पर जाकर देखा सकते है।

dividend ka paisa kaha jama hota he ?

डिविडेंट का पैसा कहा जमा होता हे ?

डिविडेंट का पैसा सीधे शेयर्स होल्डर के बैंक Dividend क्या होता है खाते में जमा होता हे। पहले आपको मेल आ जाता हे ,की आपके बैंक खाते में हमने डिविडेंड जमा कर दिया हे।और ये डिविडेंडी तारीख घोषित होने के एक महीने के अंदर अंदर आपको मिल जाता हे।

और अगर फाइनल डिविडेंड रहा तो ,१ महीने के अंदर ही मिल जाता हे।अगर ऐसा नहीं हुआ तो कंपनी को इसकी पैनल्टी पड़ती हे। पर ऐसा कभी नहीं होता डिविडेंड घोषित होने के बाद तुरंत आपको डिविडेंड का पैसा मिल जाता हे।

अभी आप सोच रहे होंगे की ये डिविडेंड यील्ड (dividend eield )क्या होता हे ?

dividend eield = cash dividend per share/market prize per share * 100

डिविडेंड यील्ड = कॅश डिविडेंड पर शेयर्स / मार्किट प्राइज पर शेयर्स * १००

डिविडेंड यील्ड मतलब एक कंपनी के डिविडेंड का परसेंटेज होता हे। उसको कंपनी के फेस वैल्यू से तय किया जाता हे।

आज हनमे क्या सीखा –

तो आज हमने dividend kya hota he के बारे में पूरी जानकारी समझी। और यकीन हे आपको हमारी ये आजकी पोस्ट पसंद आयी होगी। ये पोस्ट अछि लगे तो कृपया इसे आप शेयर जरूर करे। और अगर आपके मन में कुछ सवाल हो तो आप हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर भेज सकते हे। धन्यवाद !

क्या होता है Special Dividend? कौन- कैसे उठा सकता है इसका फायदा, जानिए पूरी डिटेल

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। अगर आप शेयर बाजार के निवेशक हैं तो डिविडेंड या लाभांश के बारे में जरूर सुना होगा. जब कभी इसकी चर्चा होती है तो इसके Dividend क्या होता है साथ कई तरह के टर्म का इस्तेमाल किया जाता है. जैसे स्पेशल डिविडेंड, रिकॉर्ड डेट, एक्स डिविडेंड डेट, अंतरिम डिविडेंड, फाइनल डिविडेंड. इस आर्टिकल में आपको इन तमाम टर्मों का मतलब बताएंगे जिससे आने वाले दिनों में आप इसका उचित फायदा उठा सकें.

सबसे पहले डिविडेंड डिक्लेरेशन डेट होता है. यह वह तारीख होती है जिस दिन किसी कंपनी का बोर्ड ऑफ डायरेक्टर डिविडेंड की घोषणा करता है. जिस दिन कंपनी डिविडेंड की घोषणा करती है उसके साथ दो और डेट की घोषणा की जाती है. ये दो डेट होते हैं रिकॉर्ड डेट और पेमेंट डेट. रिकॉर्ड डेट वह डेट होती है जिस दिन कंपनी यह देखती है कि कौन-कौन इन्वेस्टर्स हैं, जिनके डीमैट अकाउंट में शेयर्स हैं.

अगर आपको डिविडेंड का लाभ चाहिए तो रिकॉर्ड डेट के दिन आपके डीमैट अकाउंट में शेयर्स होने चाहिए. उदाहरण के तौरन पर कंपनी A ने डिविडेंड की घोषणा की और 20 सितंबर उसका रिकॉर्ड डेट है. आपको डिविडेंड का लाभ तभी मिलेगा जब 20 सितंबर को वह शेयर आपके डीमैट अकाउंट में हो.

रिकॉर्ड डेट से एक या दो कारोबारी सत्र पूर्व एक्स डिविडेंड डेट होता है. डिविडेंड का लाभ उठाने के लिए निवेशकों को एक्स डिविडेंड डेट से पहले शेयर की खरीदारी करनी होगी ताकि वह शेयर उसके डीमैट अकाउंट में रिकॉर्ड डेट के दिन रहे. यहां इस बात को समझना जरूरी है कि इंडियन स्टॉक मार्केट में जब आप कोई शेयर खरीदते हैं तो T+2 में वह आपके डीमैट अकाउंट में पहुंचता है. इसलिए एक्स डिविडेंड डेट से पहले तक खरीदारी करनी होगी. एक्स डिविडेंड डेट के दिन खरीदारी करने पर डिविडेंड का लाभ नहीं मिलेगा.

इसके अलावा मुख्य रूप से दो- अंतरिम और फाइनल डिविडेंड होता है. किसी वित्त वर्ष के लिए जब तक बुक्स ऑफ अकाउंट क्लोज नहीं होता है, उससे पहले कंपनी जब डिविडेंड की घोषणा करती है तो उसे अंतरिम डिविडेंड कहते हैं. ये शेयर होल्डर्स की सहमति से वापस भी लिए जा सकते हैं. फाइनल डिविडेंड वह डिविडेंड होता है जब फाइनेंशियल ईयर समाप्त होने पर कंपनी एनुअल जनरल मीटिंग के समय इसकी घोषणा करता है. इस डिविडेंड को वापस नहीं लिया जा सकता है.

इन दो तरह के डिविडेंड के अलावा एक स्पेशल डिविडेंड भी होता है जिसकी घोषणा कंपनी की तरफ से कभी भी की जा सकती है. जी बिजनेस की रिपोर्ट के मुताबिक, जब कोई कंपनी स्टॉक प्राइस के मुकाबले 5 फीसदी से ज्यादा के डिविडेंड की घोषणा करती है तो उसे स्पेशल डिविडेंड माना जाता है. जैसे 11 सितंबर को एक शेयर का क्लोजिंग भाव 100 रुपए है और उसने 6 रुपए प्रति शेयर डिविडेंड की घोषणा की है तो इसे स्पेशल डिविडेंड माना जाएगा.

रेटिंग: 4.20
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 426
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *