विदेशी मुद्रा विश्वकोश

आपको मार्केट ऑर्डर का उपयोग कब करना चाहिए?

आपको मार्केट ऑर्डर का उपयोग कब करना चाहिए?
किस शेयर में इन्वेस्ट करना चाहिए

स्टॉक ब्रोकर क्या है और शेयर ब्रोकर के प्रकार (Stock Broker in Hindi)

Stock Broker Kya Hai In Hindi: अगर आप शेयर मार्केट के बारे में सीखना चाहते हैं तो इससे जुड़े छोटे – छोटे टर्म के बारे में जानकारी प्राप्त करें, इनके बारे में जानकारी होना आपके वित्तीय बुद्धि को मजबूत बनाती है. शेयर बाजार से जुडी एक ऐसी ही टर्म है जो कि बहुत महत्वपूर्ण है वह है स्टॉक ब्रोकर. जिसके बारे में हम आपको आज के लेख में जानकारी देंगे.

आज के इस लेख में आपको जानने को मिलेगा कि Stock Broker क्या है, स्टॉक ब्रोकर कितने प्रकार के होते हैं, स्टॉक ब्रोकर कैसे काम करता है और स्टॉक ब्रोकर कैसे बनें.

शेयर मार्केट में स्टॉक ब्रोकर का रोल सबसे अधिक महत्वपूर्ण होता है क्योंकि निवेशक सीधे तौर पर शेयर बाजार में निवेश नहीं कर सकता है. ब्रोकर के द्वारा ही निवेशक शेयर बाजार में शेयर को खरीद और बेच सकता है. शेयर खरीदने और बेचने के लिए ब्रोकर कुछ प्रतिशत चार्ज अपने ग्राहकों से करते हैं जिससे उनकी कमाई होती है.

अगर आप स्टॉक ब्रोकर बनना चाहते हैं तो इस लेख को पूरा अंत तक पढ़ें, इसमें हमने आपको स्टॉक ब्रोकर के बारे में बहुत उपयोगी जानकारी प्रदान करवाई है. तो चलिए आपका अधिक समय न लेते हुए शुरू करते हैं इस लेख को और जानते हैं Share Broker क्या है हिंदी में.

क्या आपको अभी भी चेक यूज़ करना चाहिए? ICICI Bank कस्टमर्स ऑनलाइन ऑर्डर कर सकते हैं Cheque Book; यहां देख लें पूरा प्रोसेस

अगर आपको चेकबुक इस्तेमाल करना ही है तो आपके पास इसके लिए अप्लाई करने का ऑप्शन भी है. ICICI बैंक अपने कस्टमर्स को चेक बुक इंस्टेंट अप्लाई करने की सुविधा देता है.

ICICI Bank Checque Book Order: डिजिटल पेमेंट सॉल्यूशन के ढेरों ऑप्शन के बावजूद चेकबुक का चलन खत्म नहीं हुआ है. बिजनेसेज़ की ओर से अभी भी चेकबुक का इस्तेमाल किया जा रहा है. हालांकि, अगर यह पूछा जाए कि क्या चेकबुक का इस्तेमाल अभी भी जरूरी है तो इसका सवाल यह हो सकता है कि अगर आप दूसरे ऑप्शन्स को लेकर ओपन हों तो आपके पास ट्रांजैक्शन प्रोसेस करने के ढेरों दूसरे पेमेंट मेथड हैं.

प्राइवेट सेक्टर का बड़ा बैंक ICICI Bank भी खुद कहता है कि जब आपके पास NEFT, RGTS, IMPS, UPI, Mobile Banking और Internet Banking के ऑप्शन हैं तो चेक इशू करने की क्या जरूरत है.

हालांकि, अगर आपको चेकबुक इस्तेमाल करना ही है तो आपके पास इसको ऑनलाइन अप्लाई करने का ऑप्शन भी है. ICICI बैंक अपने कस्टमर्स को चेक बुक इंस्टेंट अप्लाई करने की सुविधा देता है.

कैसे कर सकते हैं अप्लाई

आप चेक बुक कई तरीकों से अप्लाई कर सकते हैं. इसके लिए आप iMobile, ATM, www.icicibank.com, और SMS के जरिए चेकबुक अप्लाई कर सकते हैं.

इसके अलावा आप बैंक के कस्टमर केयर नंबर पर कॉल करके या फिर बैंक के ब्रांच पर जाकर भी चेकबुक ऑर्डर कर सकते हैं.

iMobile से ऑर्डर कैसे करें-

iMobile ऐप से चेकबुक ऑर्डर करने के लिए आपको ऐप आपको मार्केट ऑर्डर का उपयोग कब करना चाहिए? खोलना आपको मार्केट ऑर्डर का उपयोग कब करना चाहिए? होगा.

-लॉगइन करने के लिए अपना चार डिजिट वाला पिन नंबर डालिए या फिंगरप्रिट स्कैन करिए.
-इसके बाद मेनू में सर्विसेज़ टैब पर जाएं. यहां आपको 'Cheque Book Services' ऑप्शन मिलेगा.

-यहां आपके नया चेक बुक इशू करने का ऑप्शन दिखाई देगा. इसपर क्लिक करने पर आपको एड्रेस डालने का ऑप्शन दिखाई देगा. आप चेकबुक मंगाने के लिए अल्टरनेटिव एड्रेस भी डाल सकते हैं.

-ऑर्डर करने के चार-पांच वर्किंग डेज़ के भीतर आपका चेकबुक आ जाएगा.

इंटरनेट बैंकिंग से कैसे होगा ऑर्डर-

अगर आपके पास इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा है तो आप www.icicibank.com पर भी जाकर चेकबुक ऑर्डर कर सकते हैं.

-इसके लिए अपने अकाउंट में लॉगइन करिए.
- कस्टमर सर्विस के अंडर सर्विस रिक्वेस्ट को सेलेक्ट करिए.
- यहां रिक्वेस्ट चेकबुक ऑप्शन दिखाई देगा, उसपर क्लिक करें.
- आपको जिस भी अकाउंट के लिए चेकबुक मंगाना हो, आप मंगा सकते हैं.
- अपनी जरूरत के हिसाब से एड्रेस डालिए और इसी एड्रेस पर आपको अपना नया चेकबुक मिल जाएगा.

सेबी के नए मार्जिन नियम आज से लागू, यहां जानिए अपने हर सवाल का जवाब

कैश मार्केट में मार्जिन से जुड़े ने नियम 1 सितंबर से लागू हो गए हैं. सेबी ने इसे कुछ समय टालने की अपील ठुकरा दी है

download (2)

सेबी मार्जिन के दो तरह के नियमों को लागू करना चाहता है. पहला नियम कैश मार्केट में अपफ्रंट मार्जिन से संबंधित है.

मैं मार्जिन को पूरी तरह से नहीं समझता, क्या मुझे इसके बारे में विस्तार से बता सकते हैं?
मार्जिन का मतलब उस रकम से है, जो आपके ट्रेडिंग अकाउंट में होती है. सामान्य रूप से निवेशक को अपने ट्रेडिंग अकाउंट में जमा रकम से शेयर खरीदने की इजाजत होनी चाहिए. लेकिन, व्यवहार में मामला थोड़ा अलग है. कई ब्रोकिंग कंपनियां अपने क्लाइंट को शेयर खरीदने के लिए रकम उधार देती हैं. इसे लिवरेज या मार्जिन ट्रेडिंग कहते हैं. इंट्राडे ट्रेडिंग में यह ज्यादा देखने को मिलता है.

फिर, 1 सितंबर से क्या बदलने जा रहा है?
पहले हम यह समझते हैं कि शेयरों की डिलीवरी किस तरह होती है. अभी बाजार में डिलीवरी के लिए टी+2 (ट्रेडिंग प्लस दो दिन) मॉडल का पालन होता है. इसका मतलब है कि अगर आप सोमवार को शेयर खरीदते या बेचते हैं तो यह बुधवार को डेबिट या क्रेडिट होगा. इसी तरह शेयर का पैसा भी बुधवार को आपके अकाउंट में आएगा या उससे जाएगा. इस मॉडल में ब्रोकर्स क्लाइंट के अकाउंट में पैसा नहीं होने पर भी शेयर खरीदने की इजाजत देते हैं. यह इस शर्त पर किया जाता है कि आप पैसा टी+1 या टी+2 दिन में चुका देंगे.

अब सेबी ने जो नया नियम बनाया है, उसमें ब्रोकर को सौदे की कुल वैल्यू का 20 फीसदी क्लाइंट से अपफ्रंट लेना होगा. इसका मतलब यह है कि सौदे के वक्त क्लाइंट (रिटेल निवेशक) को 20 फीसदी रकम चुकाना होगा. उदाहरण के लिए अगर रिटेल निवेशक रिलायंस इंडस्ट्रीज के एक लाख रुपये मूल्य के शेयर खरीदता है तो ऑर्डर प्लेस करने से पहले उसके ट्रेडिंग अकाउंट में कम से कम 20,000 रुपये होने चाहिए. बाकी पैसा वह टी+1 या टी+2 दिन में या ब्रोकर के निर्देश के मुताबिक चुका सकता है. सेबी के नए नियम के मुताबिक शेयर बेचते वक्त भी आपके ट्रेडिंग अकाउंट में मार्जिन होना चाहिए.

शेयर बेचने के लिए मेरे ट्रेडिंग अकाउंट में मार्जिन क्यों होना चाहिए?
सेबी ने सोच-समझकर यह नियम लागू किया है. इसे एक उदाहरण से समझ सकते हैं. मान लीजिए आप सोमवार को 100 शेयर बेचते हैं. ये शेयर आपको अकाउंट से बुधवार को डेबिट होंगे. लेकिन, अगर आप मंगलवार (डेबिट होने से पहले) को इन शेयरों को किसी दूसरे को ट्रांसफर कर देते हैं तो सेटलमेंट सिस्टम में जोखिम पैदा हो जाएगा.

ब्रोकिंग कंपनियों के पास ऐसा होने से रोकने के लिए हथियार होते हैं. 95 फीसदी मामलों में ऐसा नहीं होता है. सेबी ने यह नियम इसलिए लागू किया है कि 5 फीसदी मामलों में भी ऐसा न हो.

यह नियम कुछ ज्यादा सख्त लगता है, क्या इसका कोई दूसरा तरीका नहीं है?
इसका दूसरा तरीका है. सेबी ने बगैर मार्जिन शेयर बेचने की इजाजत दी है. लेकिन, इसमें शर्त यह है कि ब्रोकर के पास ऐसा सिस्टम होना चाहिए, जिसमें शेयर बेचने के दिन वह शेयरों को क्लाइंट के अकाउंट से अपने अकाउंट में ट्रांस्फर कर आपको मार्केट ऑर्डर का उपयोग कब करना चाहिए? लें. लेकिन, इसमें कुछ ऑपरेशनल दिक्कतें हैं.

इस नियम का बाजार पर क्या असर पड़ेगा?
विश्लेषकों और इंडस्ट्री के जानकारों का कहना है कि नए नियमों से ट्रेडिंग वॉल्यूम घटेगा. लेकिन, कुछ लोगों का मानना है कि पिछले 25 साल में जब भी नए नियम लागू किए गए, बाजार ने उसके हिसाब से खुद को ढाल लिया. नए नियम बाजार में जोखिम घटाने और निवेशकों के हितों की सुरक्षा के लिए लागू किए जाते हैं.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

लाभ कमाने के लिए शेयर मार्केट (Share Market) के किस शेयर में इन्वेस्ट करना चाहिए?

शेयर मार्केट (Share Market) के किस कंपनी में निवेश करना चाहिए : जब हम निवेश करते हैं या व्यापार करते हैं, तो हमारा उद्देश्य पैसा कमाना होता है। लेकिन शेयर बाजार में, हमें हमेशा यह परिभाषित करना होता है कि हम कितना रिटर्न कमाना चाहते हैं। हमारा निवेश हमारी इच्छा के अनुसार होता है, लेकिन हमे निवेश किया हुआ पैसा खोने के लिए भी तैयार होना चाहिए!

किस शेयर में इन्वेस्ट करना चाहिए

किस शेयर में इन्वेस्ट करना चाहिए

स्टॉक मार्केट (Share Market) में निवेश करने से पहले किसी को क्या सावधानी रखनी चाहिए?

  • ट्रेडिंग में अपने अनुभव के लिए मैंने हमेशा देखा है कि जब लोग तेजी के दिन स्टॉक खरीदते हैं तो वे उच्च जोखिम के लिए कम रिटर्न कमाते हैं। जब भी आप किसी स्टॉक को खरीदने का ऑर्डर देते हैं तो उसे कम से कम 1% के अंतराल के साथ छोटे लॉट में रखें ताकि आप कीमत का औसत निकाल सकें।
  • शेयर बाजार में निवेश करने का सबसे अच्छा समय सुबह 9:30 बजे से पहले है क्योंकि जब ज्यादातर लोग बाजार को आंकने की कोशिश कर रहे हैं तो आप पहले से ही बाजार का हिस्सा होंगे और अंत में या तो राजा बन जाएंगे या आपको कुछ पूंजी का नुकसान हो सकता है।
  • अगर आप किसी शेयर को लंबी अवधि के लिए खरीदना चाह रहे हैं तो सही समय वह होगा जब बाजार लगातार 2 से 3 दिनों के लिए नकारात्मक हो उस समय आपको सबसे सस्ते दाम पर स्टॉक मिलेगा।
  • यदि आप लंबी अवधि के निवेशक हैं, तो अच्छी कंपनियों के शेयर सर्वोत्तम कीमतों पर उपलब्ध हैं। लेकिन आपको धैर्य की जरूरत है और इस समय अपनी पूंजी का 50% निवेश करें और बाकी निवेश की प्रतीक्षा करें।

शेयर कब खरीदना चाहिए?

  • यह बाजार में शेयर खरीदने का सबसे अच्छा समय माना जाता है जब बाजार में लगातार वृद्धि हो रही है।
  • जब सरकार की नीतियों का झुकाव कारपोरेट क्षेत्र के विकास की ओर हो।
  • जब अच्छा प्रदर्शन करने वाली कंपनी के शेयर की कीमत में आपको मार्केट ऑर्डर का उपयोग कब करना चाहिए? अचानक गिरावट आती है, तो इसे शेयर खरीदने का सबसे अच्छा समय माना जा सकता है। क्योंकि संभावना है तो वही शेयर फिर से अपने मूल्य में वृद्धि दिखाएगा।
  • जब कोई प्रतिष्ठित कंपनी दिवालिया होने के दरवाजे पर खड़ी हो, और अगर कंपनी लाभदायक कंपनी में विलय करने जा रही है तो उस कंपनी का हिस्सा खरीदने का सबसे अच्छा समय है।
  • जब एक अनुशासित व्यक्ति घाटे में चल रही कंपनी का सीईओ या एमडी या चेयरमैन बनने जा रहा है, तो अब बाजार में निवेश करने का समय है, यह निश्चित रूप से कई गुना रिटर्न देगा।

कमाई के दो दर्शन का अध्ययन

लंबी अवधि के लिए निवेश: निवेश अवधि के रूप में 3-4 साल से 7 साल तक होना चाहिए। धन सृजन निवेश का उद्देश्य है, हम इस उद्देश्य के लिए मौलिक विश्लेषण का उपयोग करते हैं।

विभिन्न शैलियाँ :

  • मूल्य निवेश,
  • विकास निवेश,
  • उपज निवेश,
  • संरचित निवेश,
  • वैकल्पिक निवेश आदि

शॉर्ट टर्म : कुछ मिनटों से लेकर कुछ महीनों तक ट्रेडिंग को शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग कहते है। आय सृजन व्यापार का उद्देश्य है, हम इस उद्देश्य के लिए तकनीकी विश्लेषण का उपयोग करते हैं।

विभिन्न शैलियाँ :

  • डे ट्रेडिंग,
  • आपको मार्केट ऑर्डर का उपयोग कब करना चाहिए?
  • बीटीएसटी,
  • स्विंग ट्रेड,
  • पोजिशनल ट्रेडिंग,
  • और स्केलिंग।

2022 में 5 से 10 साल के लिए निवेश करने के लिए 10 स्टॉक कौन से हैं ?

यदि आप ज्यादा रिस्क लेना नहीं चाहते है, तो आपको उन कंपनियों में निवेश करना चाहिए जो मौलिक रूप से मजबूत हैं। कंपनी का प्रबंधन शीर्ष श्रेणी का होना चाहिए और कंपनी का लाभ सालाना आधार पर बढ़ रहा है, अगर कंपनी को लाभ हो रहा है तो स्टॉक ऊपर की ओर जायेगा और आपको भी लाभ मिलेगा।

यदि आप शेयर बाजार के एक्सपर्ट है, तो मेरा मानना है कि आपको उभरती हुई कंपनी में जाना चाहिए। लेकिन हमेशा याद रखें कि उभरती हुई कंपनी अधिक जोखिम वाली कंपनी होती है, लेकिन अच्छा रिटर्न भी देती है।

शेयर मार्केट(Share Market) में सबसे अच्छी कंपनी कौन सी है?

  • यहाँ शेयर मार्केट (Share Market) के कुछ लार्ज कैप कंपनी हैं जो मुझे व्यक्तिगत रूप से पसंद हैं :
  1. Hdfc bank (एचडीएफसी बैंक)
  2. Pidilite industries (पिडिलाइट उद्योग)
  3. Reliance industries (रिलायंस इंडस्ट्रीज)
  4. Tcs (टीसीएस)
  5. Infosys ( इंफोसिस)
  6. Asian paints ( एशियन पेंट्स)
  7. Bajaj finance ( बजाज फाइनेंस)
  8. Havells (हैवेल्स)
  9. Polycab india (पॉलीकैब इंडिया)
  10. Titan (टाइटन)
  • शेयर मार्केट (Share Market) के कुछ उभरती हुई कंपनी
  1. Iex (आईईएक्स)
  2. Berger paints (बर्जर पेंट)
  3. easy trip planner (ईजी ट्रिप प्लानर)
  4. lux industries (लक्स उद्योग)
  5. burger king (बर्गर किंग)
  6. happiest mind (हैप्पिएस्ट माइंड)
  7. info edge ( जानकारी बढ़त)
  8. orient electronic (ओरिएंट इलेक्ट्रॉनिक)
  9. Sbi cards (एसबीआई कार्ड)
  10. Deepak Nitrite (दीपक नाइट्राइट)

अंत में : नौसिखिया के लिए शेयर बाजार सीखना सबसे अच्छा निवेश है ! थोड़े पैसे से अभ्यास करें और लंबे समय तक बहुत अच्छा पैसा कमाना सीखें!

क्लेंज़िंग, स्क्रबिंग या मॉइश्चराइज़िंग, क्या है सही स्किन केयर रूटीन

idiva-skincare

स्किन की सही देखभाल के लिए हमारा खान-पान, लाइफस्टाइल जरूरी होती है। लाइफस्टाइल के साथ-साथ हम सभी तरह-तरह के स्किन केयर प्रोडक्ट्स पर हजारों रुपये खर्च करते हैं। हम जानते हैं स्किन केयर बेहद जरूरी है लेकिन त्वचा की देखभाल के लिए इन स्किन केयर प्रोडक्ट्स का सही तरीके से इस्तेमाल करना भी उतना ही जरूरी है। अगर आप नहीं जानते हैं कि कौन से प्रोडक्ट का इस्तेमाल कब करना है तो यह आपको वह परिणाम नहीं देगा जो आप चाहते हैं।

स्किन केयर प्रोडक्ट्स का एक ऑर्डर होता है जिसके अनुसार ही इनका इस्तेमाल किया जाना चाहिए नहीं तो उनके इस्तेमाल से आपको कोई फायदे नहीं मिलेंगे। जिस तरह हर प्रोडक्ट का एक निर्धारित काम होता है, उसी तरह हर प्रोडक्ट के इस्तेमाल का एक सही क्रम भी होता है। किस ब्यूटी उत्पाद के बाद कौन सा उत्पाद इस्तेमाल करना है, इसकी जानकारी हम आपको दे रहे हैं ताकि आप अपने ब्यूटी रूटीन से पूरा फायदा पा सके और स्किन की सही देखभाल कर सकें। आइए जानते हैं कि क्या है स्किन केयर प्रोडक्ट्स का सही ऑर्डर-

Table of Contents

मेकअप रिमूवर

अगर आप बाहर से आई हैं, पार्टी या ऑफिस या किसी फैमिली फंक्शन और आपके चेहरे पर मेकअप है, तो सबसे पहला स्टेप होगा कि आप चेहरे से मेकअप रिमूव करें। मेकअप रिमूव करने के लिए आप मेकअप रिमूवर, एसेंशियल ऑयल, माइसेलर वाटर या ऑयल क्लेंज़र का इस्तेमाल कर सकती हैं।

क्लेंज़र (cleanser)

अधिक क्लेंज़र का इस्तेमाल करने से स्किन ड्राय हो सकती हैं लेकिन ऐसा भी नहीं है कि आप स्किन को साफ ही ना करें। स्किन से गंदगी, मेकअप के पार्टिकल्स, प्रदूषण और जर्म्स को हटाने के आपको मार्केट ऑर्डर का उपयोग कब करना चाहिए? लिए इसे क्लेंज़ करना बहुत जरूरी है। इसलिए जेंटल क्लेंज़र या माइल्ड क्लेंज़र का इस्तेमाल करें, जिससे कि आपके चेहरे से गंदगी साफ हो जाए और त्वचा को नुकसान भी ना पहुंचे।

एक्सफोलिएटर/ स्क्रब

अब बारी आती है चेहरे से डेड स्किन सेल्स को हटाने की, जिसके लिए आपको एक अच्छे एक्सफोलिएटर या कहें कि अच्छे स्क्रब की जरूरत होगी। स्क्रब चेहरे से ब्लैकहेड्स, डेड स्किन और व्हाइटेड्स को रिमूव करने में मदद करता है और स्किन को नयापन और ताजगी देता है। साथ ही यह स्किन पर अतिरिक्त ऑयल के बिल्ड-अप को भी हटाता है। फेस के आलावा बॉडी स्क्रबिंग भी ज़रूर करें।

फेस पैक

स्क्रब के बाद नेचुरल तौर पर फेस पैक का इस्तेमाल किया जाता है लेकिन अगर आप पहले से स्किन को स्क्रब कर चुकी हैं तो आपको उसी समय फेस पैक लगाने की जरूरत नहीं क्योंकि जैसे हमने पहले बताया डबल-क्लेंज़िंग स्किन को डैमेज कर सकती हैं। एक्सफोलिएटर के साथ प्यूरिफाइंग फेस पैक का इस्तेमाल ना करें। इसके बजाय, आप एक दिन स्क्रब (एक्सफोलिएटर) और एक दिन फेस पैक लगाएं।

टोनर

पहले मार्केट में अधिकतर टोनर एल्कोहल-बेस्ड होते थे जो कि स्किन को और ड्राय बना देते थे लेकिन आजकल हाइड्रेटिंग, एल्कोहल-फ्री, रिफ्रेशिंग टोनर मौजूद आपको मार्केट ऑर्डर का उपयोग कब करना चाहिए? हैं। टोनर स्किन केयर रूटीन का जरूरी हिस्सा हैं। जब आप स्किन को केमिकल बेस्ड क्लेन्ज़र से साफ करते हैं तो उस पर टोनर का इस्तेमाल करना जरूरी है ताकि स्किन का सही पीएच बैलेंस बनाया जा सके। इसलिए स्क्रब और फेस पैक के बाद टोनर का इस्तेमाल करें। आप इसकी जगह फेस मिस्ट भी लगा सकती हैं। अगर आपकी रूखी स्किन है,तो ये टोनर है आपके लिए सही।

फेस सीरम

सीरम स्किन के लिए जरूरी प्रोडक्ट है लेकिन अगर आप इसे छोड़ना चाहें तो छोड़ सकती हैं। टोनर के बाद फेस सीरम इसलिए लगाया जाता है ताकि सीरम स्किन की गहराईयों तक जाकर इसे रिपेयर करने में मदद कर सके। यह स्किन के डैमेज को भी कम करता है।

मॉइश्चराइज़र या फेस क्रीम

मॉइश्चराइज़र सीरम के बाद स्किन में नमी को लॉक करने का काम करता है ताकि स्किन लंबे समय तक मॉइश्चराइज्ड रहे। जानिए स्किन के हिसाब से कौनसा मॉइश्चराइज़र है आपके लिए बेस्ट।

हम आशा करते हैं कि आपको यह लेख पसंद आया होगा। अगर आप किसी विषय पर हमसे कुछ पूछना चाहती हैं तो अपने सवाल कमेंट बॉक्स में लिख सकती हैं।

Read iDiva for the latest in Bollywood, fashion looks, beauty and lifestyle news.

रेटिंग: 4.42
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 101
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *