क्रिप्टोकरेंसी इन इंडिया

बुल अवशोषण

बुल अवशोषण
CN Manufacturer, Trading Company

परजीवी संक्रमण से मत्स्य उत्पादन पर गहरा असर

चिपका हुआ गाइरोडैक्टिलस परजीवी कृमि। मत्स्य-पालन में थोड़ी-सी लापरवाही से मत्स्य पालक को कभी-कभी भारी आर्थिक नुकसान हो जाता है, जिसकी भरपाई बड़ी मुश्किल से हो पाती है। जब कभी मछली पालक मत्स्य-पालन में स्वच्छ जल के बजाय प्रदूषित जल का उपयोग कर लेता है या फिर मत्स्य कुंडों व जल को उपचारित अथवा विसंक्रमित करना भूल जाता है तब इन कुंडों में पल रही बेशकीमती मछलियां खतरनाक परजीवी कृमियों के संक्रमण का शिकार हो जाती हैं। इससे मत्स्य उत्पादन पर गहरा असर पड़ता है। इन जानलेवा संक्रमणकारी परजीवियों में ट्रिमैटोड कृमि ऐसे बाह्य परजीवी होते हैं जिनके सैंकड़ो ओंकोमिरैसिडियम नाम के लारवा मत्स्य कुंडों में लम्बी अवधि तक जीवित रह जाते हैं। ये लारवा संक्रामक होते है जो तैरते हुए मत्स्य कुंडों में पल रही मछलियों के नाजुक श्वसन अंगों (गिल्स), शरीर की त्वचा व कोमल फिंस पर अपने मजबूत चूषकों द्वारा चिपक जाते हैं। जहां ये इनके खून व ऊतकों में मौजूद पोषक तत्वों का लगातार अवशोषण करके प्रजनन योग्य वयस्कों में परिवर्तित हो जाते हैं। इन वयस्क ट्रिमेटोड कृमियों को दिनों-दिन भोजन की और अधिक जरुरत पड़ती है, जिसकी आपूर्ति ये इन अंगों में गहरे घाव करके खून व शारीरिक ऊतकों का लगातार भक्षण किया करते हैं। जिससे इन अंगों व ऊतकों को भारी क्षति होने से न केवल फिंगरलिंग्स (अन्गुलिकाएं) बल्कि वयस्क मछलियाँ मरने लगती हैं, बल्कि इसकी वजह से मत्स्य उत्पादन काफी कम होने से मत्स्य पालक को अनायास ही आर्थिक नुकसान होता है। यदि मत्स्य पालक थोड़ी समझदारी एवं सावधानी बरते तो इन परजीवी कृमियों के संक्रमण से मछलियों को बचाया जा सकता है तथा इससे होने वाले आर्थिक नुकसान को भी रोका जा सकता है।

गाइरोडैक्टिलस व डैक्टाइलोगाइरस नामक ऐसे प्रमुख ट्रिमेटोड परजीवी कृमि है जिनका संक्रमण मत्स्य कुंडों में पल रही मछलियों में अक्सर देखने को मिलता है। प्राणीजगत के प्लैटीहैल्मिन्थीस संघ के ट्रिमैटोडा वर्ग व मोनोजीनिया गण से संबंधित ये चपटे कृमि इन मछलियों के बाह्य पर जीवी होते हैं। डैक्टाइलोगाइरस कृमि नन्हें-नन्हें फिंगरलिंग्स व वयस्क मछलियों के सिर्फ गिल्स को ही संक्रमित करते हैं, लेकिन गाइरोडैक्टिलस कृमि इतने खतरनाक होते हैं कि ये न केवल गिल्स को बल्कि त्वचा व फिंस पर सैंकड़ो की तादाद में चिपके-धंसे रहते हैं जहां से अक्सर लगातार खून रिसता रहता है। इन परजीवियों का संक्रमण एक मछली से दूसरी मछली में आपस में रगड़ खाने से अथवा आपसी संपर्क होने पर अक्सर हो जाता है।

गिल्स पर गाइरोडैक्टिलस कृमियों का खतरनाक संक्रमण।

संक्रमण की पहचान

  • मछलियों के शरीर का रंग हल्का नीला अथवा पीला पड़ जाना।
  • गिल्स, फिंस व त्वचा या शरीर बुल अवशोषण पर अत्याधिक चिकना पदार्थ अथवा म्युकस का जमा होना।
  • फिंसों का टेड़ा-मेड़ा होने के साथ-साथ शरीर के स्केल्स का लगातार गिरना।
  • शरीर पर जगह-जगह गहरे घाव (अल्सर) पड़ना तथा इनसे लगातार खून या पस निकलना।
  • मछलियाँ अक्सर मत्स्य कुंड की दीवारों व पेंदे की सतह से बार-बार रगड़ खाती रहती हैं।

निदान

मछलियों के गिल्स, त्वचा व फिंस पर पड़े अल्सर को साधारण बुल-लैंस से देखने पर हक्ले सफेद रंग के ये चपटे परजीवी कृमि आसानी से दिखाई पड़ते हैं। इनको फाइन फोरसेप या चिमटी से पकड़ कर माईक्रोस्कोप में देखने पर इन परजीवियों के होने की पुष्टि हो जाती है।

उपचार एवं बचाव

संक्रमित मछलियों को जाल (नेट) द्वारा निकालकर 5 प्रतिशत साधारण नमक के घोल में तीन से पांच मिनट तक रखने से बगैर किसी नुकसान से ये परजीवी कृमि आसानी से मर जाते हैं। फिर भी इसके बजाय 1ः5000 फोरमलिन या 1ः2000 एसेटिक एसिड रसायन के घोल ज्यादा प्रभावकारी होते हैं। यदि छोटे-छोटे पानी की कुंड या होज उपलब्ध हो तो इन संक्रमित मछलियों को दो से तीन दिनों तक 2 से 4 पीपीएम मेथाइलिन ब्ल्यू या फिर 10 पीपीएम एकिफ्लेविन युक्त जल में रखने से भी इन ट्रिमेटोड परजीवियों के संक्रमण से निजात मिल जाती है। इन परजीवियों का संक्रमण न हो, इस हेतु मछली पालन में स्वच्छ जल का ही उपयोग करना चाहिए है। पालन के पूर्व मछली कुंडों व इनके जल को अच्छी तरह से विसंक्रमित करने से अन्य परजीवियों के संक्रमण व बीमारियों के होने से भी बचा जा सकता है। दो-तीन दिन के अंतराल में पल रही मछलियों का शारीरिक सूक्ष्म परिक्षण करने से ऐसे परजीवियों के संक्रमण का पूर्व पता लग जाता है जिससे संक्रमण को रोकने में काफी मदद मिलती है। मछलियों में संक्रमण से होने वाली बीमारियों तथा इनसे बचाव सम्बंधित और नयी जानकारियाँ कृषि विश्वविद्यालयों, मात्सिकीय महाविद्यालयों, राजकीय मत्स्य विकास अधिकारियों, मात्सिकीय शोध संस्थानों व आईसीएआर, नई दिल्ली से भी ली जा सकती है।

प्रो. शांतिलाल चौबीसा, प्राणीशास्त्री एवं लेखक

.fisheriers deparment, fish farming, fish farming in india, fish farming in hindi, fish farming in india in hindi, fish wikipedia, fish wikipedia in hindi, cat fish, how to start fish farming, biofloc fish farming, pisciculture wikipedia, pisciculture wikipedia hindi, fish culture, fish culture in hindi, fist farming profect cost, fish farming in dehradun, fish farming in india, fish farming training centre, fish farming in uttarakhand, fish farming guide, fish farming pdf, fish farming in tanks, fish farming at home, fish farming subsidy, fish farming project report, fish diseases pdf, fish diseases and control measures, fish diseases in india pdf, fish diseases ppt, fish diseases in aquaculture, fish diseases images, fish diseases prevention and control strategies, fish diseases in hindi, fish diseases indian major carps, trimatode worm, trematode worm, structure of trematode worm,trematode worm, trematode worm examples, trematode worm name, trematode worm meaning in urdu, definition of trematode worm, trematode worm, a trematode worm, dactylogyrus worm, structure of dactylogyrus worm, fish diseases notes.

मजबूत पानी अवशोषण बार बीयर चटाई काला रबर शीर्ष विक्रेता 2022 के लिए लोगो के साथ अमेज़न नए विचारों बार मैट

CN Manufacturer, Trading Company

एनर्जी ड्रिंक, RED BULL (रेड बुल), कैफीन, विटामिन के साथ: पीपी, बी 5, बी 6 और बी 12

एनर्जी ड्रिंक, RED BULL (रेड बुल), कैफीन, विटामिन के साथ: पीपी, बी 5, बी 6 और बी 12

एनर्जी ड्रिंक, RED BULL (रेड बुल), कैफीन, विटामिन के साथ: पीपी, बी 5, बी 6 और बी 12 विटामिन और खनिजों में समृद्ध जैसे: विटामिन बी 5 - 30,8%, विटामिन बी 6 - 108,4%, विटामिन बी 12 - 65,7%, विटामिन पीपी - 49,1%

  • विटामिन V5 प्रोटीन, वसा, कार्बोहाइड्रेट चयापचय, कोलेस्ट्रॉल चयापचय में भाग लेता है, कई हार्मोनों के संश्लेषण, हीमोग्लोबिन, आंत में अमीनो एसिड और शर्करा के अवशोषण को बढ़ावा देता है, अधिवृक्क प्रांतस्था के कार्य का समर्थन करता है। पैंटोथेनिक एसिड की कमी से त्वचा और श्लेष्म झिल्ली को नुकसान हो सकता है।
  • विटामिन V6 केंद्रीय तंत्रिका तंत्र में प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया, निषेध और उत्तेजना प्रक्रियाओं के रखरखाव में भाग लेता है, अमीनो एसिड के रूपांतरण में, ट्रिप्टोफैन, लिपिड और न्यूक्लिक एसिड के चयापचय में, एरिथ्रोसाइट्स के सामान्य गठन में योगदान देता है, सामान्य स्तर का रखरखाव। रक्त में होमोसिस्टीन का। विटामिन बी 6 का अपर्याप्त सेवन भूख में कमी, त्वचा की स्थिति का उल्लंघन, होमोसिस्टीनमिया, एनीमिया के विकास के साथ है।
  • विटामिन V12 अमीनो एसिड के चयापचय और रूपांतरण में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। फोलेट और विटामिन बी 12 परस्पर संबंधित विटामिन हैं और रक्त निर्माण में शामिल हैं। विटामिन बी 12 की कमी से आंशिक या माध्यमिक फोलेट की कमी, साथ ही एनीमिया, ल्यूकोपेनिया, थ्रोम्बोसाइटोपेनिया का विकास होता है।
  • विटामिन पीपी ऊर्जा चयापचय के redox प्रतिक्रियाओं में भाग लेता है। अपर्याप्त विटामिन का सेवन त्वचा की सामान्य स्थिति, जठरांत्र संबंधी मार्ग और तंत्रिका तंत्र के विघटन के साथ है।

आप परिशिष्ट में सबसे उपयोगी उत्पादों के लिए एक पूर्ण मार्गदर्शिका पा सकते हैं।

टैग: कैलोरी सामग्री 43 किलो कैलोरी, रासायनिक संरचना, पोषण मूल्य, विटामिन, खनिज, क्या उपयोगी है एनर्जी ड्रिंक, रेड बुल, कैफीन, विटामिन: पीपी, बी 5, बी 6 और बी 12, कैलोरी, पोषक तत्व, उपयोगी गुण एनर्जी ड्रिंक, रेड बुल ( रेड बुल), कैफीन, विटामिन जोड़ने के साथ: पीपी, बी5, बी6 और बी12

बुल अवशोषण

पत्थर का कठोरता परीक्षण (Hardness test of stone ) Student Hacks, Stone Ground, Work Site

Проектирование Общестроительных Работ, Цивилизация

पत्थर का जल अवशोषण एवं सरंध्रता परीक्षण(Water absorption Test of stones) (I.S. 1124 - 1974) Камни, Вода

पत्थर का आभासी विशिष्ट गुरुत्व ज्ञात करना (Test for Apparent specific Gravity of stone)(I.S. 1124-1974) Gravity, Math Equations, Stone, Rock, Stones, Batu

पत्थर का आभासी विशिष्ट गुरुत्व ज्ञात करना (Test for Apparent specific Gravity of stone)(I.S. 1124-1974)

चट्टानों का रासायनिक वर्गीकरण (Chemical or scientific classification of Rocks) Рок

चट्टानों का भू वैज्ञानिक वर्गीकरण (Geological classification of Rocks) Геология, Математика

सर्वेक्षण के मूलभूत सिद्धांत(Basic principles of surveying) Позитив

हॉफमैन का भट्टा निरन्तर (पूरे वर्ष )कार्य करने वाला आधुनिक भट्टा है | इसकी कार्य प्रणाली बुल खाई भट्टे के जैसी है, परन्तु यह उससे उत्तम . Кирпич, Строительство

हॉफमैन का भट्टा निरन्तर (पूरे वर्ष )कार्य करने वाला आधुनिक भट्टा है | इसकी कार्य प्रणाली बुल खाई भट्टे के जैसी है, परन्तु यह उससे उत्तम .

इस भट्टे का कुछ भाग खाई खोद कर, ज़मीन के अंदर रखा जाता है, खाई बनाने से भट्टा स्थिर रहता है और ईटे भरने तथा निकलने मे कम दिक्कत आती है यह एक .

इस भट्टे का कुछ भाग खाई खोद कर, ज़मीन के अंदर रखा जाता है, खाई बनाने से भट्टा स्थिर रहता है और ईटे भरने तथा निकलने मे कम दिक्कत आती है यह एक .

यह भट्टा सबसे पहले इलाहाबाद क्षेत्र में स्थापित किया गया था अतः इसी नाम से प्रचलित है यह एक अनिरंतर या बिरामी भट्टा है | ईटों का एक घान (l. Артрит, Ручная Вышивка Цветов, Вечеринка, Trapillo, Еда, Блузки, Кухонная Утварь, Здоровье От Природы, Схемы Вязания Крючком

यह भट्टा सबसे पहले इलाहाबाद क्षेत्र में स्थापित किया गया था अतः इसी नाम से प्रचलित है यह एक अनिरंतर या बिरामी भट्टा है | ईटों का एक घान (l.

ईटो का निर्माण (Manufacture of Bricks) Кирпичи, Нотная Тетрадь

इंजीनियरिंग ईटो के लिए सामान्य परीक्षण ( common tests for Engineering bricks)

ईट निर्माण के प्रमुख घटक (components of bricks)

सीमेंट के प्रकार (types of cement ) Цемент

सीमेंट का सूक्षमता परीक्षण( fineness test of cement )

सीमेंट की तनन सामर्थ ज्ञात करने के लिए सीमेंट :बालू मसाले (1:3 भार अनुसार) के मानक ब्रिकेट्टे (briquette) बनाए जाते हैं और इनको तनन सामर्थ. Сила

सीमेंट की तनन सामर्थ ज्ञात करने के लिए सीमेंट :बालू मसाले (1:3 भार अनुसार) के मानक ब्रिकेट्टे (briquette) बनाए जाते हैं और इनको तनन सामर्थ.

सीमेंट की तनन सामर्थ परीक्षण (tensile strength test of cement ) Нерф

सीमेंट का सूक्षमता परीक्षण( fineness test of cement )

Basics of civil engineering. Concept of couple Пары

Beams are classified in following catagories 1 cantilever beam 2 simple supported beam 3 over hanging beam 4 continuous beam 5 fixed beam . Балки

Beams are classified in following catagories 1 cantilever beam 2 simple supported beam 3 over hanging beam 4 continuous beam 5 fixed beam .

If a number of forces ( or group of forces) are acting on a body, then it is said that a

If a number of forces ( or group of forces) are acting on a body, then it is said that a "system of forces" is acting on the body. So we can.

It states that,

It states that, "if two concurrent coplanar forces are acting simultaneously on a point of a body and are represented in megnitude and direc.

ईट, टाइल्स (Bricks, Tiles)

ईटो का निर्माण - (1) मिट्टी तैयार करना ( मिट्टी खोदना, ऋतु प्रभावी बनाना, सम्मिश्रण, गूंथना), यांत्रिक विधि से मिट्टी तैयार करना - बुल अवशोषण पग मिल (2) ईटों को ढालना - हस्त ढलाई, मशीन ढलाई ( ईटों का सांचा, स्टॉक बोर्ड, पैलेट बोर्ड ) (3) ईटो को सुखाना - प्राकृतिक विधि से ईटों सुखाना, कृतिम विधि से ईटों को सुखाना (4) ईटों को पकाना (Manufacture of bricks - (1)Preparation of Brick Earth (Digging,Weathering , Blending, बुल अवशोषण kneading), mechanical preparation of brick clay - Pug Mill (2) Molding of bricks

ईटो का निर्माण - (1) मिट्टी तैयार करना ( मिट्टी खोदना, ऋतु प्रभावी बनाना, सम्मिश्रण, गूंथना), यांत्रिक विधि से मिट्टी तैयार करना - पग मिल (2) ईटों को ढालना - हस्त ढलाई, मशीन ढलाई ( ईटों का सांचा, स्टॉक बोर्ड, पैलेट बोर्ड ) (3) ईटो को सुखाना - प्राकृतिक विधि से ईटों सुखाना, कृतिम विधि से ईटों को सुखाना (4) ईटों को पकाना (Manufacture of bricks - (1)Preparation of Brick Earth (Digging,Weathering , Blending, kneading), mechanical preparation of brick clay - Pug Mill (2) Molding of bricks - Hand mold

ईटो का निर्माण - (बुल अवशोषण 1) मिट्टी तैयार करना ( मिट्टी खोदना, ऋतु प्रभावी बनाना, सम्मिश्रण, गूंथना), यांत्रिक विधि से मिट्टी तैयार करना - पग मिल (2) ईटों को ढालना - हस्त ढलाई, मशीन ढलाई ( ईटों का सांचा, स्टॉक बोर्ड, पैलेट बोर्ड ) (3) ईटो को सुखाना - प्राकृतिक विधि से ईटों सुखाना, कृतिम विधि से ईटों को सुखाना (4) ईटों को पकाना (Manufacture of bricks - (1)Preparation of Brick Earth (Digging,Weathering , Blending, kneading), mechanical preparation of brick clay - Pug Mill (2) Molding of bricks - Hand mold

रेटिंग: 4.29
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 384
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *