भारत में विदेशी मुद्रा व्यापार के लिए रणनीतियाँ

निर्देशित निवेश

निर्देशित निवेश
उन्होंने कहा कि स्कूली बच्चों द्वारा जागरूकता विषयक प्रभात फेरी निकाली जाए। लोगों को ट्रैफिक नियमों की जानकारी देते हुए उनके पालन करने के लिए जागरूक किया जाए। सीएम ने कहा कि सड़कों पर स्पीड ब्रेकर की खराब डिजाइन आए दिन दुर्घटनाओं का कारक बनती है। इस दिशा में विशेष ध्यान दिए जाए। फिटनेस के मानकों पर फेल बसों को किसी भी दशा में सड़क पर न चलने दिया जाए।

सोनपुर में कविता पाठ से रोकी गईं अनामिका अंबर

कनेक्टिविटी का केंद्र है मेरठ, अब औद्योगिक माहौल बनाए अधिकारी : सीएम योगी आदित्यनाथ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को मेरठ मंडल के जिलों में बेहतर माहौल बनाकर औद्योगिक निवेश बढ़ाने के लिए निर्देशित किया। साथ ही जनप्रतिनिधियों से संवाद बनाए रखने और उनकी समस्याओं का प्राथमिकता से निस्तारण करने के लिए भी मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए।

मेरठ, जागरण संवाददाता। विकास कार्यों और कानून व्यवस्था की कमिश्नरी सभागार में समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को मेरठ मंडल के जिलों में बेहतर माहौल बनाकर औद्योगिक निवेश बढ़ाने के लिए निर्देशित किया। साथ ही जनप्रतिनिधियों से संवाद बनाए रखने और उनकी समस्याओं का प्राथमिकता से निस्तारण करने के लिए भी मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए। आईटीएमएस चौराहों को सेफ सिटी से जोड़कर महिला सुरक्षा पर ध्यान देने, लंबी रोग से पशुओं को बचाने, विभिन्न माध्यमों से प्राप्त होने वाली शिकायतों के समय से निस्तारण और आमजन को योजनाओं का लाभ पहुंचाने के लिए भी मुख्यमंत्री ने विशेष रूप से अधिकारियों को निर्देशित किया।

भारत की जनता बेहाल

बाइक बोट कंपनी ने निवेशकों के साथ धोखा करके लगभग 10,000 हजार करोड़ का फ़्रौड निवेशकों के साथ किया है निवेशकों को कंपनी से क्या मिला: · प्रति 62100/- रूपय निवेश की एवज में प्रति माह 9765/- रूपय लौटाने का ऐग्रीमेंट करके. बाद में निवेशकों को पैसा देने से इन्कार किया. निवेशक अपने आप को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं ॥ · कंपनी ने अपनी तथाकथित “बाइक बोट” वैबसाइट, जिस पर निवेशक अपनी डिटेल्स चैक कर सकता था, उसे बंद करके निवेशकों को अंधकार में छोड़ा ॥ · कंपनी ने निवेशकों को एक साल बाद की तिथि के श्योरिटी चेक़ वितरित करने का निवेशकों को आश्वासन दिया परंतु बाद में एकतरफा निर्णय लेकर फ़ाइनल सेटलमेंट के चेक़ वितरित करने का नोटिफ़िकेशन वेबसाइट पर फ्लैश कर दिया, जिसका विरोध निवेशकों ने कंपनी को E-Mail करके किसी प्रकार का सेटेलमेंट न करने का आग्रह बार बार किया परंतु कंपनी ने कोई उत्तर नहीं दिया॥ · कंपनी ने जितने भी चेक़ निवेशकों को वितरित किए, लगभग 95% चेक़ गलत राशी के वितरित किए जिससे पता लगता है की कंपनी ने शुरू से ही निवेशकों के निवेश का कोई हिसाब नहीं रखा, क्यूंकी कंपनी की मंशा बाद में निवेशकों को कभी पैसा लौटाने की थी ही नहीं ॥ · चेक़ में राशी के करेक्शन के नाम पर कंपनी ने लगभग 5 माह का समय व्यर्थ करने के बाद भी लगभग 70% लोगों को चेक़ इशू ही नही कर पाये ॥ चेक़ भी न मिलने से निवशक अपने को असहाय पा रहा है · चिति ग्राम धनकौर (UP) में एक छोटे से ऑफिस में चेक़ करेक्शन के कार्य को चलाने का ढोंग लगभग एक माह करने के बाद उस ऑफिस में भी आग लगा कर कंपनी ने इस ऑफिस को बंद कर दिया तथा लगभग निर्देशित निवेश 70% निवेशकों को चेक़ भी वितरित नहीं किए, निवेशक असहाय ॥ ऑफिस में कोई कम्प्यूटर, फर्नीचर, बिल्डिंग कुछ भी न जलने निर्देशित निवेश से निवेशकों को संदेह॥ आग लगने बारे कंपनी ने पुलिस को भी सूचित नही किया॥ · कंपनी ने ऑफिस में तालाबंदी की तथा किसी भी निवेशक का ऑफिस में प्रवेश पर रोक॥ · कंपनी ने अपना निवेश कई अन्य कंपनियों में बता कर निवेशकों को गुमराह किया, कोट ग्राम का 6 एकड़ में फैला “गर्वित कैंपस” (बाइक बोट कार्यालय) भी किराय का निकला जिसे भी कंपनी ने बंद कर दिया गया ॥ · कंपनी ने अचानक बिना किसी पूर्व सूचना के, अपने तहत चल रही फ्रेनचाईजिज़ को बंद करके निवेशकों को मजधार में छोड़ दिया॥ · अचानक कंपनी ने गर्वित बाज़ार नाम की कंपनी को सभी निवेशकों की KYC बेच दी, तथा निवेशकों को अपनी वैबसाइट के जरिये गर्वित बाज़ार में निवेश करने को कहा तथा ये भी साथ में कहा की बाइक बोट का गर्वित बाज़ार से किसी प्रकार का लेना देना नही है, बाइक बोट निवेशकों का पेमेंट गर्वित बाज़ार में निवेश करने से रिलीज नही किया जाएगा॥ निवेशक अपनी KYC को गर्वित बाज़ार की वैबसाइट में पा कर सदमे में॥ · बार बार कंपनी द्वारा सब कुछ ठीक हो जाने की dates निवेशकों को दे कर धोखा किया गया तथा अब अंत में निवेशकों को पैसा देने से माना कर दिया तथा चेक़ के ऊपर ही आधारित रहने को कहा जबकि लगभग 70% निवेशकों को चेक़ दिये ही नही गये ॥ निवेशक कुछ न कर पाने की स्थिति में मजबूर॥ · कंपनी के सभी डायरेक्टर्स के सामने न आने तथा अंडर ग्राउंड होने से निवेशकों में भारी आक्रोश ॥ निवेशकों को शासन-प्रशासन से क्या मिला: · निवेशकों ने देश के विभिन्न राज्यों में लगभग 50 से अधिक प्रार्थना पत्र कंपनी के खिलाफ धोखा धड़ी के संदर्भ मे पुलिस को दिये परंतु अभी तक किसी भी राज्य में पुलिस ने कंपनी के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की · निवेशकों ने जगह जगह जा कर पुलिस अधिकारियों के दर पर भारी संख्या में समूहिक रूप से व निजी रूप से प्रार्थना पत्र सोंपे ॥ · अधिकतर प्रार्थियों के प्रार्थना पत्र पर मुकदमें भी दर्ज नहीं किए गये॥ · पुलिस ने अभी तक नामजद किए गये निर्देशित निवेश डायरेक्टर्स को कस्टिडी में नही लिया॥ · पुलिस ने डायरेक्टर्स पर निगाह नहीं रखी आज के दिन सभी डायरेक्टर्स फरार, पुलिस को उनकी उपल्भ्द्ता की कोई सूचना नहीं ॥ · अभी तक डायरेक्टर्स के पासस्पोर्ट बैन नहीं किए गये, निवेशकों को संदेह की डायरेक्टर्स विदेश भागने की फिराक में ॥ · पुलिस ने अभी तक कंपनी ऑफिस बंद हो जाने पर भी कंपनी के दस्तावेज़ जांच करने के लिए काबू में नही किए॥ · निवेशकों ने उच्च स्तर के पुलिस अधिकारियों से भी कार्यवाही के लिए गुहार लगाई परंतु पुलिस ने उच्च अधिकारियों के आदेश की भी अवमानना करते हुए दोषियों के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की, निवेशक हैरान परेशान स्थिति में॥ · निवेशकों ने पुलिस के अलावा सरकार के दर पर भी गुहार लगाने में कोई कसर नहीं रखी, · निवेशकों ने मुख्यमंत्री को भी कार्यवाही के लिए प्रार्थना पत्र दिये परंतु वहाँ से भी निर्देशित अधिकारियों ने किसी प्रकार का संगयान न लेते हुए कोई कार्यवाही नहीं की ॥ · निवेशकों ने प्रधानमंत्री जी श्री नरेन्द्र मोदी जी को भी कार्यवाही के लिए प्रार्थना पत्र दिये परंतु वहाँ से भी निर्देशित अधिकारियों निर्देशित निवेश निर्देशित निवेश ने किसी प्रकार का संगयान न लेते हुए कोई कार्यवाही नहीं की ॥ · निवेशकों ने महामहिम राष्ट्रपति जी श्री रामनाथ कोविन्द जी को भी कार्यवाही के लिए प्रार्थना पत्र दिये परंतु वहाँ से भी कोई कार्यवाही नहीं हुई॥ निवेशक सोचने के लिए मजबूर की अब न्याय के लिए किस के दर पर जाए॥ क्या भगवान के दर पर जाना या अत्महत्या की ओर अग्रसर होने के अलावा निवेशक के पास कोई रास्ता नहीं बचा क्यूंकी अधिकतर निवेशकों ने विभिन्न बैंकों से लोन लेकर कंपनी में निवेश कर रखा है और अब बैंकों का लोन न भर पाने की स्थिति में व बैंकों की और से दबाव बनाए जाने के कारण निवेशकों के पास अत्महत्या की और अग्रसर होने के अलावा कोई और रास्ता नही सूझ रहा है॥ शासन व प्रशासन से निवेदन है की भारत की भोली भली जनता के साथ गर्वित इनोवेशन प्रोमोटेर्स लिमिटेड ने जो धोखा / फ़्रौड किए हें उन पर त्वरित संगयान लें तथा कार्यवाही नहीं न्याय करें ॥ भारत की जनता की अपेक्षाओं तथा अपने कर्तव्यों पर खरा उतरनें की चेष्टा करें। आप सभी से प्रार्थना है की इस पेटीशन को साइन करें ताकि देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंदर मोदी जी तथा उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी तक हमारी आवाज पहुँच सके व लगभग ढाई लाख परिवार तबाह व बर्बाद होने से बचा लिया जाए प्रार्थी बाइक बोट निवेशक राजेश पांचाल व 2.5 लाख भारतीय परिवार +91-9555177000

निर्देशित निवेश

Uttar Pradesh : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहा कि आगामी 3 जून को प्रदेश में 75 हजार करोड़ रुपए की निवेश परियोजनाओं के साथ तीसरी ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी का आयोजन होने जा रहा है। इसकी सभी तैयारियां समय से पूरी कर ली जाएं।

आग से होने वाली क्षति से जनता को बचाने के लिए सीएम ने पूरे प्रदेश में तत्काल अभियान चलाकर सभी बहुमंजिला भवनों, अस्पतालों, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स आदि में अग्निशमन व्यवस्थाओं का सघन निरीक्षण करने का आदेश दिया है। साथ ही उन्होंने प्रदेश में सभी फायर स्टेशन को पूरी मुस्तैदी से कार्यरत रहने के लिए निर्देशित किया है।

ट्रेनिंग दी जाए

कोविड समीक्षा बैठक के दौरान सीएम ने कहा कि एम्बुलेन्स संचालन से जुड़े कार्मिकों के विशेष प्रशिक्षण की व्यवस्था की जाए। पीड़ित, घायल लोगों के प्रति अतिरिक्त संवेदनशीलता बरती जाए। एम्बुलेंस के रेस्पॉन्स टाइम को कम से कम करने के लिए तकनीक का सहारा लिया जाए। साथ ही, वॉलंटियर्स को भी इस कार्य से जोड़ा जाए।

Sahara India News Today: सहारा इंडिया में फसा पैसा इस तरह निकाल सकते है वापिस, जाने पूरी प्रक्रिया

Sahara India News Today: सहारा इंडिया परिवार की विभिन्न कंपनियों में निवेश कर चुके युवाओं को उनकी संपूर्ण धनराशि वापस प्राप्त करने के लिए एक सुनहरा अवसर क्योंकि हाल ही में सहारा इंडिया परिवार के निवेशकों को उनकी धनराशि भारी मात्रा में सीधे बैंक खातों में प्राप्त हुई है और इस बात की पुष्टि करते हुए महाराष्ट्र के मुंबई में निवास करने वाले एक निवेशक ने कहा कि सहारा इंडिया परिवार के संस्थापक सुब्रता रॉय जल्द ही सहारा इंडिया परिवार के निवेशकों की धनराशि लौटा कर उनके मन में पुनः विश्वास जागृत करने के लिए एक सराहनीय कदम उठा सकते हैं |

हम आपको बता दें कि सहारा इंडिया की राशि को वापस प्राप्त करने के लिए भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (एसईबीआई) आपकी सहायता करेगा तथा निवेशकों को लगभग ₹138 करोड़ रुपए का फंड विभाग द्वारा प्रदान किया जा चुका है और इस बात की पुष्टि स्वयं भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (एसईबीआई) ने की है | अतः सहारा इंडिया परिवार के निवेशकों को अब किसी भी दफ्तर के चक्कर काटने की आवश्यकता नहीं है उन्हें संपूर्ण राशि सीधे बैंक खाते में प्राप्त हो सकेगी |

Sahara India News Today – Overview

1लेख विवरणसहारा इंडिया न्यूज़ टुडे
2कंपनीसहारा इंडिया परिवार
3विभागभारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (एसईबीआई)
4श्रेणीलेटेस्ट न्यूज़
5कंपनी के संस्थापकसुब्रता रॉय
6सर्वाधिक निवेशसहारा इंडिया की एसआईआरईसीएल एवं एसएचसीआईएल कंपनियों में
7रिफंड राशिनिर्देशित बैंक खातों में
8एसईबीआई टोल फ्री नंबर1800-266-7575
9आधिकारिक वेबसाइटhttps://www.sahara.in/
  • आधार कार्ड
  • मोबाइल नंबर
  • ईमेल आईडी
  • पैन कार्ड
  • हस्ताक्षर
  • फिंगरप्रिंट
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • जाति प्रमाण पत्र
  • क्रीमीलेयर
  • बैंक पासबुक
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • सहारा इंडिया में मिली कूपन कोड
  • सहारा इंडिया से जुड़े अन्य आवश्यक दस्तावेज आदि |

Sahara India News Today

Sahara India News Today : सहारा इंडिया परिवार कंपनी में निवेश करने वाले निर्देशित निवेश उम्मीदवारों के लिए बहुत ही अच्छी खबर क्योंकि उन्हें जल्द से जल्द संपूर्ण निवेश राशि वापस प्राप्त हो सकती है निर्देशित निवेश तथा दिसंबर माह में अधिकांश निवेशक को की धनराशि निर्धारित ब्याज सहित वापस की जा सकती है | सहारा इंडिया परिवार की एसआईआरईसीएल एवं एसएचसीआईएल कंपनी में निवेशकों की सर्वाधिक राशि जमा है और भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (एसईबीआई) निवेशकों को उनकी संपूर्ण धनराशि वापस प्राप्त करने में सहायता करेगा |

सहारा इंडिया रियल एस्टेट कॉरपोरेशन लिमिटेड (एसआईआरईसीएल) एवं सहारा हाउसिंग सीमेंट कॉपर लिमिटेड (एसएचसीआईएल) में निदेशकों की सर्वाधिक निवेश राशि फसी होने के कारण सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड (एसईबीआई) का अधिक ध्यान इन्हीं दो कंपनियों पर टिका हुआ है और सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी निर्देशों में इन्हीं दो कंपनियों के लिए विशेष निर्देश जारी किए गए हैं |

सहारा इंडिया रिफंड की प्रक्रिया क्या है ?

सहारा इंडिया परिवार निवेश करने वाले उम्मीदवारों निर्देशित निवेश को सूचित कर दें कि आप अपनी निवेश राशि की पुष्टि करण के लिए आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से अपना नाम रजिस्टर करवाएं ताकि जब धनराशि वापस की जाए तो आपसे संपर्क किया जा सके !

  • सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट का चयन करें |
  • अब आपकी डिवाइस में विभाग का होमपेज प्रदर्शित हो रहा है |
  • अब होम पेज पर आपको “रजिस्टर ऑनलाइन फॉर रिफंड सहारा इंडिया” की लिंक पर क्लिक करना होगा |
  • इसके पश्चात आपको नए पेज पर भेज दिया निर्देशित निवेश जाएगा |
  • यहां पर आपको आवश्यक विवरण दर्ज करना होगा |
  • अब आप पुष्टिकरण के लिए आवश्यक दस्तावेजों को अपलोड करेंगे |
  • इसके पश्चात कैप्चा कोड दर्ज करें |
  • अतः सबमिट बटन पर क्लिक करते ही आप ऑनलाइन पंजीकरण कर पाएंगे |
रेटिंग: 4.14
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 78
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *